Easter Sunday 2022: जानें इस पर्व से जुड़े कुछ बहुत ही रोचक तथ्य

Easter Sunday 2022: जानें इस पर्व से जुड़े कुछ बहुत ही रोचक तथ्य

ईसाई धर्म में ईस्टर संडे (Easter Sunday), गुड फ्राइडे (Good Friday) के बाद मनाया जाने वाला प्रमुख पर्व है. इस साल, ईस्टर संडे 17 अप्रैल 2022 को मनाया जाएगा. क्रिसमस के अलावा, ईस्टर भी ईसाइयों का प्रमुख पर्व है. आपको बता दें, कि ईस्टर पर्व, वसंत ऋतु में आता है. यह पर्व हमेशा एक ही दिन नहीं पड़ता, 21 मार्च के बाद जब पहली बार चाँद पूरा होता है, उसके बाद के पहले रविवार को यह पर्व मनाया जाता है.

क्यों मनाया जाता है ईस्टर संडे

गुड फ्राइडे के दिन महाप्रभु ईसा मसीह के बलिदान को याद किया जाता है, तो लोग इस दिन बहुत दुखी होते हैं. वहीं, ईस्टर संडे पर उनकी खुशी दोगुनी हो जाती है, क्योंकि ईसाई धर्म के लोगों का मानना है, कि गुड फ्राइडे के तीसरे दिन, यानी गुड फ्राइडे के बाद आने वाले रविवार को ईसा मसीह दोबारा जीवित हुए थे. आपको बता दें, कि ईसा मसीह के जीवित होने की खुशी में ईसाई धर्म को मानने वाले लोग ईस्टर संडे मनाते हैं.

आपको बता दें, कि ईसाई धर्म के प्रसिद्ध ग्रंथ बाइबिल (The Bible) में भी लिखा गया है, कि दोबारा जीवित होने के बाद, यानी ईस्टर संडे के 40 दिन बाद तक, ईसा मसीह पृथ्वी पर रहे थे. इस दौरान उन्होंने शिष्यों को प्रेम और करुणा का पाठ पढ़ाया, इसके बाद वह ईश्वर की शरण में चले गए थे. ईस्टर का त्योहार ईस्टर संडे से शुरू होकर आने वाले 40 दिनों तक धूमधाम से मनाया जाता है.

गुड फ्राइडे के दिन क्या हुआ था

प्रभु ईसा मसीह प्रेम और शांति के मसीहा थे और दुनिया को प्रेम और करुणा का संदेश देने वाले प्रभु यीशु को, धार्मिक कट्टरपंथियों ने रोम के शासक से शिकायत करके, उन्हें सूली पर लटका दिया था. इस दिन पर उनके बलिदान को याद किया जाता है.

कैसे मनाया जाता है ईस्टर संडे

ईस्टर संडे के दिन ईसाई धर्म को मानने वाले लोग गिरजाघरों में जाते हैं और जीजस (Jesus) को याद करते हैं. उनकी याद में गिरजाघर यानी चर्च में मोमबत्तियां जलाते हैं, बाइबिल पढ़ते हैं और प्रभु यीशु के जीवित होने की खुशी में एक दूसरे को बधाई देते हैं. क्रिसमस के अलावा ईस्टर, ईसाई धर्म का सबसे बड़ा पर्व है और दोनों ही पर्व ईसा मसीह के जन्मदिन के रूप में मनाए जाते हैं.

ईस्टर शब्द का महत्व

आपको बता दें, कि ईस्टर शब्द जर्मन के ‘ईओस्टर’ शब्द से लिया गया है. जिसका अर्थ ‘देवी’ है. यह देवी ‘वसंत’ की देवी मानी जाती है. ईस्टर संडे को बदलाव का भी दिन माना जाता है, क्योंकि, जीजस को यातनाएं देने वाले और सूली पर चढ़ाने वाले लोगों को इस दिन बहुत पश्चाताप हुआ था.

ईस्टर के दिन अंडों का महत्व

ईस्टर पर अंडों का विशेष महत्व होता है. इस दिन लोग अंडों को सजाते हैं और साथ ही एक-दूसरे को अंडे गिफ्ट में भी देते है. इस दिन अंडे का महत्व इसलिए है, क्योंकि ईसाई धर्म के लोग अंडे को नया जीवन और उमंग का प्रतीक मानते हैं.

Related Stories

No stories found.