Jamsetji Tata ने दान की 102 बिलियन डॉलर की सम्पत्ति, पिछले दशक से सबसे बड़े दानकर्ता

Jamsetji Tata ने दान की 102 बिलियन डॉलर की सम्पत्ति, पिछले दशक से सबसे बड़े दानकर्ता

Hurun Report और EdelGive Foundation ने पिछले 100 वर्षो में 50 सबसे बड़े दानवीरों की एक सूची तैयार की है. आप को जानकर शायद आश्चर्य होगा, कि इस लिस्ट में पहले स्थान पर बिल गेट्स या वारेन बफ़ेट नहीं है. बल्कि, पहले स्थान पर, भारत में Tata Group के संस्थापक Jamsetji Tata हैं. रिपोर्ट के अनुसार, पिछले 100 वर्षों में, Jamsetji Tata ने लगभग 102 बिलियन डॉलर की संपत्ति समाजसेवा के लिए दान कर दी है.

Jamsetji Tata के साथ और कौन है शामिल 

लिस्ट के अनुसार, Jamsetji Tata के बाद दूसरे स्थान पर बिल गेट्स और उनकी पत्नी, मेलिंडा गेट्स का नाम है. Microsoft के संस्थापक बिल गेट्स, अपनी पत्नी के साथ मिलकर, बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन चलाते हैं. इस फाउंडेशन के ज़रिए, वह समाजसेवा का कार्य करते हैं. अब तक समाजसेवा के लिए, वह लगभग 74.6 बिलियन डॉलर दान कर चुके हैं.

इसके अलावा, लिस्ट में तीसरे स्थान पर, ब्रिटिश-अमरीकी समाजसेवी हेनरी वेलकम का नाम है. हेनरी वेलकम ने सन 1880 में वेलकम फार्मा की स्थापना की थी. यह कंपनी, आज GlaxoSmithKline के नाम से जानी जाती है. लिस्ट के अनुसार, हेनरी वेलकम समाजसेवा के लिए लगभग 56.7 बिलियन डॉलर का दान कर चुके हैं.

लिस्ट में, चौथे व पांचवे स्थान पर, जॉन रॉकफेलर और वारेन बफ़ेट ने जगह बनाई है. अमेरिका के जॉन रॉकफेलर ने, अपने जीवनकाल के दौरान 26.8 बिलियन डॉलर का दान किया था. दूसरी ओर,  बर्कशायर हैथवे के प्रमुख, वारेन बफ़ेट भी इस सूची के अनुसार, 37.4 बिलियन डॉलर का दान कर चुके हैं.

एक अन्य भारतीय का नाम भी है लिस्ट में शामिल

Hurun Report और EdelGive Foundation ने, अपनी सूची में Jamshed ji Tata के साथ ही एक अन्य भारतीय को भी जगह दी है. टॉप 50 दानवीरों की सूची में, Wipro के चेयरमैन अज़ीम प्रेमजी का नाम भी शामिल है. देश की प्रमुख सॉफ्टवेयर कंपनी, Wipro के चेयरमैन अज़ीम प्रेमजी ने, अपनी सारी सम्पत्ति दान करने की घोषणा की है. समाजसेवा के लिए दान की गई उनकी सम्पत्ति कुल कीमत 22 बिलियन डॉलर आँकी गयी है. 

इस सूची में ज्यादातर दानकर्ता अमेरिका से हैं. जिनमें, 50 में से 39 लोग अमेरिकी हैं. अमेरिका के अलावा, सूची में ब्रिटेन (5) और चीन (3) के भी कुछ नाम शामिल हैं.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com