Indian Railways News: कवच प्रणाली का हुआ सफलतापूर्वक परीक्षण, जानें क्या है ख़ास

Indian Railways News: कवच प्रणाली का हुआ सफलतापूर्वक परीक्षण, जानें क्या है ख़ास

Indian Railways के द्वारा 4 मार्च को कवच प्रणाली का सफल परीक्षण किया गया है. दरअसल, कवच नाम एक स्वचालित ट्रेन सुरक्षा का है. इस प्रणाली का परीक्षण करने के लिए, दो ट्रेनों को कुछ मीटर की दूरी के साथ एक ही ट्रैक पर रखा गया था, जिनमें से एक ट्रेन में केंद्रीय रेल मंत्री Ashwini Vaishnav सवार थे. चूंकि, केंद्रीय मंत्री के साथ ट्रेन दूसरी ट्रेन की ओर आ रही थी, कवच ने कार्रवाई की और सामने से आ रही ट्रेन से टकराने से 380 मीटर पहले ही ट्रेन को रोक दिया.

तेलंगाना के सिकंदराबाद में कवच प्रणाली का लाइव परीक्षण किया गया था. परीक्षण के दौरान रेल मंत्री Ashwini Vaishnav के साथ रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष व अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे लेकिन सामने से आ रही दूसरी ट्रेन में भी Indian Railways के उच्च अधिकारी मौजूद थे. यह परीक्षण सनथनगर-शंकरपल्ली खंड पर आयोजित किया गया था.

इस पूरे वीडियो को केंद्रीय रेल मंत्री Ashwini Vaishnav ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर भी साझा किया है.

यह भारत में ही विकसित ऑटोमेटिक ट्रेन प्रोटेक्शन सिस्टम है. कवच प्रणाली को ऑटोमेटिक तरीके से ट्रेन को रोकने के लिए डिजाइन किया गया है. अगर ट्रेन में किसी डिजिटल सिस्टम में कोई भी खराबी आती है जैसे कि रेड सिगनल या कोई भी अन्य खराबी तो यह तकनीक ऑटोमेटिक तरीके से संबंधित मार्ग से गुजरने वाली ट्रेन को रुकवा देती है. लेकिन ध्यान देने योग्य बात यह है कि इस तकनीक को लागू करने के लिए लगभग 50 लाख रुपये प्रति किलोमीटर का खर्च आएगा. यदि लोको पायलट ट्रेन को रोकने में विफल रहता है, तो 'कवच' प्रणाली ट्रेन के ब्रेक अपने आप लगा देगी.

कवच प्रणाली हाई फ्रीक्वेंसी रेडियो कम्युनिकेशन पर काम करती है. यह SIL-4 (सिस्टम इंटीग्रिटी लेवल -4) को भी सत्यापित करता है. यह रेलवे सुरक्षा के लिए उठाया गया उच्चतम स्तर का कदम है. इससे अचानक होने वाली दुर्घटनाओं पर काफी हद तक निजात पाया जा सकता है.

Related Stories

No stories found.