Rafale Squadron: भारतीय वायुसेना जल्द करेगी दूसरा स्क्वाड्रन एयरक्राफ्ट चालू

Rafale Squadron: भारतीय वायुसेना जल्द करेगी दूसरा स्क्वाड्रन एयरक्राफ्ट चालू

अंबाला पहुंच चुका Rafale स्क्वाड्रन विमान, अगले कुछ दिनों में हाशीमारा एयरबेस के लिए फेरी लगाना शुरू कर देगा. जिसके बाद, यह भारतीय वायुसेना में शामिल हो जाएगा. सरकारी सूत्रों के अनुसार, स्क्वाड्रन विमान, 26 जुलाई तक चालू हो जाएगा.

हाशिमारा में, चीन स्थित पूर्वी सीमा की देखभाल के लिए, 101 Rafale स्क्वाड्रन विमान जिम्मेदार होंगे. जबकि, अंबाला में 17 स्क्वाड्रन विमान लद्दाख में चीन के साथ उत्तरी सीमाओं पर. और पाकिस्तान के साथ अन्य क्षेत्रों की देखभाल करेंगे.

पहला Rafale स्क्वाड्रन पहले ही अंबाला में रखा जा चुका है और पूर्वी लद्दाख समेत. अन्य क्षेत्रों में चीन की सीमाओं पर गश्त कर रहा है. जुलाई में, इन विमानो के आगमन के कुछ दिनों के भीतर ही, विमानों को सेवा में चालू कर दिया गया है. साथ ही, इन्हें पहले ही चीन के साथ पूर्वी मोर्चे पर हवाई गश्त के काम पर लगा दिया गया है. यह नया जेट विमान, Su-30 के बेड़े के साथ काम करेगा.

इससे पहले, भारत और फ्रांस ने 59 करोड़ की लागत से भारत को 36 Rafale जेट प्रदान करने के लिए. एक अंतर-सरकारी समझौता किया था.  इसमें, भारतीय वायुसेना को पहले ही फ्रांस से 26 विमान प्राप्त हो चुके हैं. वहीं, शेष अगले कुछ माह में वितरित होने की उम्मीद है. पहला बैच, जुलाई 2020 में आया, जबकि दूसरा बैच नवंबर 2020 में. इसके बाद,  तीसरा बैच जनवरी 2021 में आया है.

स्वदेशी Rafale पर भी चल रहा है काम

भारत अब स्वदेश में बने, स्टील्थ फाइटर्स एडवांस्ड मीडियम कॉम्बैट एयरक्राफ्ट के साथ. 114 मल्टीरोल लड़ाकू एयरक्राफ्ट के ऑर्डर देने की योजना बना रहा है. जिसके, सात Rafale स्क्वाड्रन विमान अगले 15 से 20 वर्षों में भारतीय वायुसेना में शामिल होंगे.

यह नया Rafale स्कॉड्रन वायु रक्षा और वायु श्रेष्ठता, टोही और परमाणु हमले की रोकथाम के विभिन्न मिशनों को अंजाम देने में सक्षम है. यह ज़मीनीऔर समुद्री हमलों को रोकने में भी मदद कर सकता है. इसकी खासियत यह है, की इसमें दो इंजन मौजूद हैं. इसके अलावा, यह स्कैल्प क्रूज मिसाइल और MICA हथियार प्रणाली से जुड़े कई हथियारों को ले जाने में सक्षम हैं.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com