Gautam Adani : अडानी फर्म के निवेशकों की चांदी, पिछेल 1 साल में 5 गुना बढ़ी सम्पत्ति।

Gautam Adani : अडानी फर्म के निवेशकों की चांदी, पिछेल 1 साल में 5 गुना बढ़ी सम्पत्ति।
Gautam Adani, chairman and founder of Adani Group (Photo by Subhankar Chakraborty/Hindustan Times via Getty Images)

अडानी ग्रुप की लिस्टेड कंपनियों की मार्केट पूंजी पिछले एक साल में ₹1.64 लाख करोड़ रुपये से बढ़कर ₹8.5 लाख करोड़ रुपये हो गयी है। गौतम अडानी (Gautam Adani) के ग्रुप की कुल लिस्टेड 6 कंपनियो में से 4 ने पिछले एक साल के दौरान अपने निवेशकों की दौलत में 1 लाख करोड़ से अधिक का इज़ाफ़ा किया है।

पिछले एक साल के दौरान गौतम अडानी (Gautam Adani) और उनकी कंपनियो के ग्रुप ने तूफानी गति से तरक्की की है। गौतम अडानी (Gautam Adani) ने इस दौरान भारत के बड़े बड़े व्यापारिक घरानों को पीछे छोड़ते हुए देश के सबसे अमीर व्यक्तियों की फेहरिस्त में शामिल हो गए है। आज टाटा, वाडिया और बिरला को दौलत के मामले में गौतम अडानी(Gautam Adani) के अडानी ग्रुप ने पछाड़ दिया है।

दौलत के मामले में केवल मुकेश अंबानी ही गौतम अडानी (Gautam Adani) से आगे नज़र आते है। मुकेश अम्बानी (Mukesh Ambani) की कुल सम्पत्ति 77 बिलियन डॉलर है, तो वहीं अडानी भी 69 बिलियन डॉलर की सम्पत्ति के साथ उनसे अधिक पीछे नहीं है। 2021 की शुरुआत के बाद से गौतम अडानी (Gautam Adani) की सम्पत्ति में 75 करोड़ रुपये का इज़ाफ़ा प्रति घण्टे हुआ है। इस मामले में उनसे आगे इस वर्ष केवल जेफ़ बेज़ोस (Jeff Bejos)और फ्रेंच फैशन टाइकून बर्नार्ड अरनॉल्ट (Bernard Arnault) है, जो कि कुछ समय के लिए विश्व के सबसे अमीर व्यक्ति भी रहे थे। 

गौतम अडानी(Gautam Adani) की दौलत में हुई इस बढ़ोतरी के पीछे  उनकी कंपनियो द्वारा इंसफ़राट्रकचर में किये गए भारी निवेश को मुख्य कारण बताया जा रहा है। पिछले दो साल के दौरान अडानी ग्रुप ऑफ कंपनीज़ ने 50000 करोड़ की कीमत के अधिग्रहण किये हैं, इनमे से पिछले 25000 करोड़ की कीमत के अधिग्रहण बीते एक साल के दौरान ही किये गए हैं।

अडानी ग्रुप(Gautam Adani) के इस बेहतरीन प्रदर्शन का फायदा उंसके निवेशकों को भी मिला है। अडानी ग्रुप की लिस्टेड 6 कंपनियों में अगर एक साल पहले अगर किसी व्यक्ति ने 10000 हज़ार रुपये का निवेश किया होगा तो उस निवेश के बदले आज उसे 52000 हज़ार रुपये प्राप्त हो सकते हैं।

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com