‘Galwan Ke Veer’ गीत हुआ रिलीज़. गलवान संघर्ष में शहीद हुए भारतीय वीर सैनिकों को भारतीय सेना ने दी श्रंधांजली

‘Galwan Ke Veer’ गीत हुआ रिलीज़. गलवान संघर्ष में शहीद हुए भारतीय वीर सैनिकों को भारतीय सेना ने दी श्रंधांजली

लद्दाख के गलवान में भारतीय सेना और चीनी सेना के बीच हुई लड़ाई को कौन भूल सकता है. आज उस लड़ाई को हुए 1 साल पूरा हो चुका है. वहीं उन शहिद हुए बहादुर भारतीय सैनिको को श्रंद्धांजलि देते हुए भीरतीय सेना ने उन पर वीडियो गीत 'Galwan Ke Veer' रिलीज किया है.

मंगलवार को भारतीय सेना के ट्विटर पेज पर 'Galwan Ke Veer' गाना रिलीज किया गया है. इस गाने के रिलीज की खबर भारतीय सेना ने इसके कुछ बोल लिखकर की है. उन्होंने लिखा, '#गलवानकेवीर मुझे तोड़ लेना वनमाली! उस पछ पर देना तुम फेंक, मात्रभूमि पर शीश चढ़ाने, जिस पथ जावें वीर अनेक #भारतीयसेना #StrongAndCapable'. 

यह गाना एक वीडियो के साथ रिलीज हुआ है, जो लद्दाख की रक्षा करने वाले हमारे बहादुर सैनिकों की वीरता को दिखाता है. 'Galwan Ke Veer' गीत को पाॅपुलर गायक Hariharan ने गाया है. वीडियो 4 मिनट 59 सेकंड लंबी है. इसमें लद्दाख की रक्षा करने वाले हमारे देश के वीर सानिकों की कुछ झलक दिखाई गई है. इसके अलावा वह कैसे हर एक खतरे का सामना करते हैं वह भी दिखाया है. साथ ही उनकी युद्ध के लिए ट्रेनिंग का कुछ हिस्सा भी वीडियो में शामिल है.

लद्दाख की गलवान घाटि में पिछले साल 15 जून को  भारतीय सेना और चीनी सेना के बीच गंभीर झड़प हुई थी. बड़े पैमाने पर हुई इस झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे. दूसरी ओर चीन ने पहले अपने किसी भी जवान के शहीद न होने की बात कही थी. मगर फिर इस साल फरवरी में चीन ने भी यह माना की झड़प के दौरान उसके भी 5 सानिक मारे गए थे. जिनमें कुछ सैन्य अधिकारी और कुछ सानिक शामिल थे.
भारत और चीन के बीच सीमा को लेकर विवाद पिछले साल बहुत बढ़ गया था. जहां चीन सेना बार-बार भारतीय सीमा में दाखिल हो रही थी. वहीं भारत सैनिक उन्हें रोकने के प्रयास में लगे थे. चीन की घुसपैठ के बाद भारत ने चीन के साथ व्यापार और कुछ चीनी एप पर बैन लगा दिया था. दोनों देशों ने राजनीतिक तौर पर कई बातचीत की थी. जिसके बाद फरवरी 2021 में दोनों ने लद्दाख की पैंगांग झील के उत्तर और दक्षिणि तट से अपनी- अपनी सेना को वापस लौटने का आदेश दे दिया था. दोनों देशों के बीच बातचीत का सिलसिला अभी भी जारी है.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com