Flipkart Valuation: भारतीय ई-कॉमर्स कंपनी की कीमत बढ़कर हुई 37.6 बिलियन डॉलर

Flipkart Valuation: भारतीय ई-कॉमर्स कंपनी की कीमत बढ़कर हुई 37.6 बिलियन डॉलर
This photo taken on May 8, 2018 shows the logo of e-commerce company Flipkart at its headquarters in Bangalore. - US retail behemoth Walmart is expected to announce May 9 that it is to buy a majority stake in India's largest e-commerce company Flipkart for around $15 billion. Walmart CEO Doug McMillon arrived in Bangalore, the Flipkart headquarters, to announce the deal which media reports said would see the American firm acquire around 70 percent of the Indian e-tailer. (Photo by - / AFP) (Photo credit should read -/AFP via Getty Images)

नए राउंड की फंडिंग के बाद, भारत की शीर्ष ई-कॉमर्स कंपनी, Flipkart का मूल्यांकन बढ़कर 37.6 बिलियन डॉलर हो गया है. Flipkart को ताजा फंडिंग के दौरान, GIC, Canada Pension Plan Investment Board, SoftBank Vision Fund 2 और Walmart की ओर से निवेश प्राप्त हुआ है. 2018 के बाद, पहली बार Flipkart ने वॉलमार्ट के अलावा दूसरे किसी निवेशक से फ़ंडिंग प्राप्त की है. गौरतलब है, कि 2018 में वॉलमार्ट द्वारा Flipkart का अधिग्रहण किया गया था.

Flipkart द्वारा इस फंडिंग का आयोजन उस दौरान किया गया है जब, Tata Group और Reliance Industries द्वारा ऑनलाइन व्यापार के क्षेत्र में तेज़ी से कदम बढ़ाए जा रहे हैं. आशंका जताई जा रही है, कि इस फ़ंडिंग की सहायता से कंपनी अपने नए प्रतिद्वंद्वियों से मुकाबला करने के लिए तैयारी कर रही है. इस फ़ंडिंग का इस्तेमाल Flipkart अपनी सप्लाई चैन बेहतर करने के लिए करेगी. इसके साथ ही, Flipkart की योजना कुछ नई कैटेगरी में निवेश करने की भी है.

इस फंडिंग के दौरान कंपनी के पुराने निवेशक, softbank की भी वापसी हुई है. 2018 में walmart द्वारा, Flipkart के अधिग्रहण के दौरान softbank ने अपनी हिस्सेदारी walmart को ही बेच दी थी. 

फंडिंग के सम्बन्ध में, कंपनी ने एक बयान जारी करके कहा है, कि "इस नए राउंड की फ़ंडिंग को, DisruptAD, Qatar Investment Authority, Khazanah Nasional Berhad, Tencent, Willoughby Capital, Antara Capital, Franklin Templeton और Tiger Global जैसे शीर्ष निवेशकों की सहायता के साथ आयोजित किया गया था." 

Flipkart के CEO, कल्याण कृष्णमूर्ति का कहना है कि, "अपने ग्राहकों की सेवा करने के साथ साथ हमारा ध्यान भारत के छोटे और मध्यम व्यापारों के विकास पर भी है, विशेषकर, किराना दुकानों पर. हम नई कैटेगरी में निवेश करना जारी रखेंगे और साथ ही, भारत मे निर्मित तकनीक का इस्तेमाल करके ग्राहकों को एक विश्वस्तरीय सप्लाई चैन का अनुभव उपलब्ध कराना चाहते हैं."

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com