Farmers Protest Ends: दिल्ली बॉर्डर छोड़कर किसानों ने की घर वापसी, 15 जनवरी को होगी समीक्षा बैठक

Farmers Protest Ends: दिल्ली बॉर्डर छोड़कर किसानों ने की घर वापसी, 15 जनवरी को होगी समीक्षा बैठक

पिछले एक वर्ष से कृषि कानूनों के विरोध में चल रहा Farmers Protest, अब किसानों द्वारा खत्म कर दिया गया है. किसान नेता Rakesh Tikait ने कहा है, कि सभी किसान 15 दिसंबर तक दिल्ली बाॅर्डर खाली कर देंगे. किसानों की ओर से यह फैसला, प्रधानमंत्री द्वारा तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने के कुछ समय बाद आया है.

Bhartiye Kisan Union के कार्यकर्ता ने इस बारे में जानकारी देते हुए कहा है, कि "हमने एक साल के लंबे Farmers Protest के बाद, यह लड़ाई जीती है. हम इस बात से बेहद खुश हैं, कि केंद्र सरकार ने हमारी भावनाओं को समझा और हमारी मांगों को पूरा करने के लिए राज़ी हो गई. अब हम यहां से सामान बांध रहे हैं और 11 दिसंबर को सुबह 9 बजे अपने घरों को लौट जाना शुरु कर देंगे. ये किसान यूनियन के लिऐ बहुत ही बड़ी जीत है. हालांकि, हम जीत का जश्न नहीं मनाएंगे, क्योंकि हमारे CDS Bipin Rawat ने तमिलनाडु में हुई हेलीकॉप्टर दुर्घटना में अपनी जान गंवाई है."

आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि लोकसभा में पहले ही दिन कृषि कानूनों की वापसी के बावजूद भी Farmers Protest जारी था. आंदोलन पर बैठे किसानों का कहना था, कि जब तक Narendra Modi सरकार उनकी दूसरी सभी शर्तों को नहीं मान लेती, तब तक वह आंदोलन नहीं छोड़ेंगे.

प्रधानमंत्री Narendra Modi के किसानों को समझाने के बावजूद भी Farmers Protest खत्म नहीं हुआ था. वहीं कृषि कानूनों को वापिस लेते समय, केन्द्र सरकार ने शान्ति की उम्मीद की पहल करते हुए, किसानो को अश्वासन दिया है, कि सरकार उनकी सभी मांगों को लेकर पुन: विचार करेगी. इसके साथ ही, सरकार उनके पक्ष में फ़ैसला लेने की कोशिश भी करेगी.

केंद्र सरकार के इस बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए किसान नेता Gurnam Singh Charuni ने कहा है, कि, "हम सब 15 जनवरी को एक समीक्षा बैठक करने वाले हैं. अगर सरकार अपने वादे पूरे नहीं करती है, तो हम विरोध फिर से शुरू कर सकते हैं."

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com