EPFO-e-Shram: असंगठित कार्यबल को मजबूत करने के लिए आज होगा पोर्टल लॉन्च

EPFO-e-Shram: असंगठित कार्यबल को मजबूत करने के लिए आज होगा पोर्टल लॉन्च

आज केंद्रीय श्रम मंत्री Bhupendra Yadav के द्वारा एक वेब पोर्टल को लांच किया जाएगा. इस वेब पोर्टल का नाम e-Shram पोर्टल है. इस पोर्टल को बनाने का उद्देश्य देश के असंगठित मजदूरों एवं कारगारों को फायदा देना है. इस पोर्टल के माध्यम से उनका रजिस्ट्रेशन कर, देश में उनकी संख्या पर निगरानी रखी जाएगी. यदि इन मजदूरों को किसी भी प्रकार की सरकारी मदद की जरूरत होगी तो सरकार इन्हें मदद भी प्रदान करेगी. इसी हफ्ते मंगलवार को इस e-Shram पोर्टल के लोगो को भी लांच किया गया था.

एक बयान में Bhupendra Yadav ने  e-Shram के बारे में बताते हुए कहा कि, इस पोर्टल से करोड़ों असंगठित कामगारों का डेटाबेस रखा जाएगा. उन्हें समय-समय पर सरकार की सामाजिक सुरक्षा और अन्य योजनाओं से जोड़ने के लिए यह पोर्टल एक गेम-चेंजर साबित होगा. हालांकि इस वेब पोर्टल को श्रमिकों को समझाना काफी चुनौतीपूर्ण काम रहेगा. लेकिन एक बार इस के शुरू हो जाने पर इस पोर्टल की देख-रेख का दायित्व राज्य सरकार को सौंप दिया जाएगा."

इसका उद्देश्य पूरे भारत में लगभग 38 करोड़ असंगठित श्रमिकों को पोर्टल पर रजिस्टर कराना है. इनमें निर्माण मजदूर, प्रवासी श्रमिक, रेहड़ी-पटरी वाले, घरेलू कामगार, कृषि श्रमिक और असंगठित कामगारों के इसी तरह के अन्य उप-समूह शामिल होंगे.

e-Shram पोर्टल के साथ टोल फ्री नम्बर भी होगा लॉन्च

भूपेंद्र यादव के अनुसार, रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया में श्रमिकों की सहायता के लिए पोर्टल के साथ-साथ राष्ट्रीय टोल-फ्री नंबर 14434 भी लॉन्च किया जाएगा. आधार कार्ड नंबर, बैंक खाता विवरण और अन्य व्यक्तिगत जानकारी के साथ, श्रमिकों को एक e -Shram कार्ड प्रदान किया जाएगा, जिसमें 12 अंकों की विशिष्ट पहचान संख्या होगी.

इस पोर्टल के लॉन्च में देरी को लेकर पहले सुप्रीम कोर्ट ने सरकार की खिंचाई की थी. शीर्ष अदालत की पीठ ने 10 जून 2021 को सरकार पर दबाव डाला था कि चूंकि केवल एक पंजीकरण "मॉड्यूल" बनाया जाना था, इसलिए सरकार इसके लिए इतना समय क्यों ले रही है.

इस योजना से श्रमिकों को मिलने वाले लाभ

  • ये कार्ड पूरे भारत में मान्य होगा.
  • इस में रजिस्टर्ड कामगारों को प्रधानमन्त्री श्रम-बीमा  योजना के सभी लाभ मिलेंगे.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com