National Pension Scheme: अब प्रवेश की आयु हुई 70 वर्ष, योजना में हुए बड़े बदलाव

National Pension Scheme: अब प्रवेश की आयु हुई 70 वर्ष, योजना में हुए बड़े बदलाव

National Pension Scheme, सरकारी और गैर-सरकारी, दोनों क्षेत्रों के कर्मचारियों के लिए एक लोकप्रिय सरकार समर्थित रिटारयमेंट योजना है. National Pension Scheme को PFRDA द्वारा नियंत्रित किया जाता है. वित्त वर्ष 2022 के अंत तक, National Pension Scheme ( NPS) के तहत, कुल संपत्ति 30% बढ़कर 7.5 लाख करोड़ रुपये होने की उम्मीद है. वहीं, 25 सितंबर 2021 तक, 18.28 लाख निजी पर्सनलाइज्ड नॉमिनेशन थे, जिनमें कॉर्पोरेट क्षेत्र के 12.59 लाख ग्राहक शामिल थे. केंद्र सरकार के कर्मचारियों की कुल संख्या 22.24 लाख है, जबकि राज्य सरकार के कर्मचारियों की संख्या 53.79 लाख है.

कर लाभ के साथ-साथ, रिटायरमेंट के बाद के जीवन के लिए उच्च रिटर्न निवेश विकल्प के साथ National Pension Scheme को कम जोखिम वाला माना जाता है. हाल ही में, NPS के नियमों में कई बदलाव किए गए हैं. सरकारी क्षेत्र के National Pension Scheme ग्राहकों के लिए, ऑनलाइन निकास प्रक्रिया का विस्तार किया है. हाल ही में, निकासी के विकल्प के रूप में, सरकारी क्षेत्र के ग्राहकों के लिए पैसों की निकासी की ऑनलाइन और कागज रहित प्रक्रिया को बढ़ाया गया है.

सरकार द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, "ग्राहकों के हित में बढ़े हुए परिश्रम के हिस्से के रूप में मौजूदा दिशानिर्देशों के अनुसार ऑनलाइन निकासी को तत्काल बैंक खाता के साथ एकीकृत किया जाएगा. यह सुविधा, केंद्र/राज्य सरकार के उन कर्मचारियों के लिए भी उपलब्ध होगी, जो National Pension Scheme में शामिल हैं.

National Pension Scheme के नए एंट्री नियम

केंद्र सरकार ने हाल ही में, National Pension Scheme में प्रवेश की आयु बढ़ाकर 70 वर्ष कर दी है. पहले प्रवेश की आयु, 65 वर्ष थी. अब, 18 से 70 वर्ष तक का कोई भी व्यक्ति National Pension System की सदस्यता ले सकेगा. नए प्रवेश आयु नियम के साथ, NPS से बाहर निकल चुके ग्राहक भी अपने खाते, फिर से खोल सकते हैं. NPS खाताधारकों को 75 वर्ष की आयु तक, अपने खाते को स्थगित करने की अनुमति दी गई है.

 बदले संपत्ति आवंटन मानदंड 

 PFRDA के मुताबिक, 65 साल के बाद NPS में शामिल होने वाले सब्सक्राइबर ऑटो और एक्टिव चॉइस के तहत, 15% और 50% के अधिकतम इक्विटी एक्सपोजर के साथ पीएफ और एसेट एलोकेशन के विकल्प का इस्तेमाल कर सकते हैं. पेंशन फंड को साल में एक बार बदला जा सकता है. जबकि एसेट एलोकेशन को दो बार बदला जा सकता है.

National Pension Scheme के नए निकास नियम

अब, 65 साल के बाद National Pension Scheme में शामिल होने वाले नए ग्राहकों के लिए, 3 साल की लॉक-इन अवधि मिल सकती है. इस योजना से बाहर निकलने के लिए अधिकतम आयु 75 है. उपभोक्ता, कर-मुक्त एकमुश्त राशि के रूप में कुल राशि का 60% निकाल सकते हैं. उन्हें शेष 40% का उपयोग वार्षिकी खरीदने के लिए करने की आवश्यकता होती है. हालांकि, अगर राशि 5 लाख रुपये से कम है, तो ग्राहक पूरी राशि निकाल सकता है.

नया समयपूर्व निकास नियम

यदि आप National Pension Scheme से समय से पहले बाहर निकलने की योजना बना रहे हैं, तो आपको इसके तहत अपनी संचित संपत्ति का केवल 20% एकमुश्त हिस्सा मिलेगा. शेष राशि के साथ, आपको एक वार्षिकी खरीदनी होगी. यह 80:20 नियम 18-60 वर्ष के बीच NPS में शामिल होने वाले सरकारी और गैर-सरकारी दोनों क्षेत्रों के ग्राहकों के लिए लागू होगा. हालांकि, गैर-सरकारी क्षेत्र के मामले में, व्यक्ति को 10 साल के लिए ग्राहक होना चाहिए.

 NPS योजना पर बोलते हुए, SEBI पंजीकृत कर और निवेश विशेषज्ञ, जितेंद्र सोलंकी ने कहा, "एक NPS खाताधारक अपने NPS खाते में 75 % तक इक्विटी एक्सपोजर चुन सकता है. हालांकि, इक्विटी एक्सपोजर को 60 % और ऋण पर रखना सबसे अच्छा अभ्यास है. यह, उन NPS ग्राहकों के लिए भी उपयुक्त है, जिनकी जोखिम क्षमता कम है. 60:40 इक्विटी और ऋण जोखिम रखने से NPS खाताधारक को लंबी अवधि में लगभग 10 % NPS ब्याज दर प्राप्त करने में मदद मिलेगी."

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com