CBSE को 12वीं कक्षा की मार्किंग स्कीम के लिए मिली सुप्रीम कोर्ट से मंजूरी,31 जुलाई तक परिणाम

CBSE को 12वीं कक्षा की मार्किंग स्कीम के लिए मिली सुप्रीम कोर्ट से मंजूरी,31 जुलाई तक परिणाम

CBSE द्वारा 12वीं कक्षा के लिए बनाई गई मार्किंग स्कीम की योजना को सुप्रीम कोर्ट ने मंजूरी दे दी है. अभी इस योजना के तहत मार्किंग स्कीम से असंतुष्ट छात्रों के लिए विवाद समाधान तंत्र की कमी है.साथ ही परिणाम की घोषणा और वैकल्पिक परीक्षा आयोजित करने की समयसीमा की कमी पाई गई है. इस संबंध में अंतिम आदेश सोमवार तक सुनाया जा सकता है.

CBSE की स्कीम में विद्यार्थियों के 10वीं,11वीं और 12वीं के नंबर भी होंगे अहम

CBSE द्वारा बनाई गई मार्किंग स्कीम कुछ इस प्रकार है:

  • कक्षा 10 के 30% मार्क्स
  • कक्षा 11 के 30%मार्क्स  
  • कक्षा 12  के यूनिट टेस्ट / मिड-टर्म / प्री-बोर्ड के आधार पर 40% मार्क्स

स्कूल 12वीं के अंक 15 जुलाई तक जमा करेंगे

स्कूलों को 15 जुलाई तक अंतिम अंक बोर्ड को जमा करने होंगे. प्रत्येक स्कूल में पांच सदस्यीय परिणाम समिति का गठन किया जाएगा. इस समिति में अध्यक्ष के रूप में प्रधानाचार्य, कक्षा 12वीं में पढ़ाने वाले स्कूल के दो वरिष्ठतम शिक्षक और दो शिक्षक शामिल होंगे. इसी प्रकार कक्षा 12वीं को पढ़ाने वाले पड़ोसी वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय से शिक्षक बुलाए जाएंगे जिन्हें बाहरी सदस्यों के रूप में सहयोजित किया जाएगा.

स्कीम से असंतुष्ट छात्र हालत समान्य होने पर दे सकते है परीक्षा

महामारी की स्थिति के बीच CBSE कक्षा 12वीं की परीक्षाओं को रद्द करने की अपील पर सुनवाई जस्टिस एएम खानविलकर और दिनेश माहेश्वरी की बेंच ने की. इस बेंच को अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने बताया कि CBSE के जो भी छात्र मार्किंग स्कीम से संतुष्ट नहीं हैं उनको महामारी की स्थिति अनुकूल होने पर कक्षा 12वीं की परीक्षा देने का अवसर दिया जाएगा.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com