BYJU’S: 500 मिलियन डॉलर में किया अमेरिकी कंपनी का अधिग्रहण, अमेरिकी बाज़ार में 1 अरब डॉलर निवेश करने की तैयारी

BYJU’S: 500 मिलियन डॉलर में किया अमेरिकी कंपनी का अधिग्रहण, अमेरिकी बाज़ार में 1 अरब डॉलर निवेश करने की तैयारी
In this photo taken on January 10, 2019, Byju Raveendran, founder of Byju's, the Bangalore-based educational technology start-up, poses at the company's premises in Bangalore. - From a multi-billion-dollar education startup to wired-up mannequins, technology is helping to revolutionise the way Indian schoolchildren are learning -- provided their parents can afford it. (Photo by MANJUNATH KIRAN / AFP) / To go with 'INDIA-ECONOMY-EDUCATION-TECHNOLOGY-AMAZON',FOCUS by Vishal MANVE (Photo by MANJUNATH KIRAN/AFP via Getty Images)

प्रमुख भारतीय स्टार्टअप कंपनी BYJU'S -The Learning App इस वक्त बुलंदियों पर है. जहां वह शिक्षा की बेहतरी के लिए एक के बाद एक, शिक्षा से संबधित कंपनियों का अधिग्रहण करती जा रही है. हाल ही में BYJU'S ने अमेरिकी डिजिटल रिडिंग प्लेटफार्म का अधिग्रहण किया है. इसके लिए कंपनी ने 500 मिलियन डॉलर खर्च किए हैं. वहीं अमेरिकी बाज़ार में अपनी साख जमाने के लिए कंपनी 1 अरब डॉलर निवेश करने की तैयारी में है. 

Epic के साथ हुए सौदे पर, BYJU'S ने यह स्पष्ट किया है कि इस अधिग्रहण के बाद भी Epic के मुख्य कार्यकारी अधिकारी और संस्थापक पहले की ही तरह अपनी भूमिका निभाते रहेंगे. इसके पहले कंपनी ने Aakash Educational Services Limited का भी अधिग्रहण किया था. जिसके लिए करीब 1 अरब डॉलर का खर्च किया गया था. 

आपको बता दें, कि Epic के पास शिक्षा से संबंधित एक शानदार संग्रह है. इसमें दुनिया के सर्वश्रेष्ठ प्रकाशकों की 40,000 से ज्यादा किताबें, ऑडियो बुक और विडियो शामिल हैं. कंपनी ने शिक्षकों के लिए अपनी सेवाएं मुफ्त रखी हैं. 

इस सौदे पर कंपनी का कहना है कि, "हमने 12 साल या उससे कम उम्र के बच्चों के लिए यह समझौता किया है. जिससे बच्चे डिजिटल प्लेटफार्म Epic पर आसानी से किताबें पढ़ सकें. इस अधिग्रहण से कंपनी की उपस्थिति भारत सहित अमेरिका में भी मजबूत होगी."

BYJU'S के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी Byju Raveendran ने सौदै पर कहा है कि, "Epic के साथ यह साझेदारी हमें वैश्विक स्तर पर मदद करेगी. जिसके अंतर्गत हमारे अभियान को भी बढ़ावा मिलेगा. जो कि मुख्य रूप से जिज्ञासा और सीखने की ललक पैदा करना है".

बीते वर्ष लाॅकडाउन में स्कूल और कालेज बंद होने पर सबसे ज़्यादा प्रभावित शिक्षा का ही क्षेत्र था. लेकिन कम समय में, तेजी से उभरती शिक्षा से सम्बंधित स्टार्टअप कंपनियों ने इसको संभाल लिया है. फिर चाहें वह BYJU'S हो, या Unacademy या फिर कोई ओर हो. बात BYJU'S की करें, तो ये कंपनी एक मिसाल है. कंपनी की शुरूआत ट्यूशन देने से हुई थी. आज इसकी पहचान उन चुनिंदा ऐप में है, जो लगातार तीन वर्षों तक 100 फीसदी की ऊंचाई पर रही है. इसके अलावा साल 2019 की Forbes Richest Indians की लिस्ट में BYJU'S के संस्थापक का नाम शामिल था.

कंपनी की ज़बरदस्त लोकप्रियता और राजस्व के दम पर यह मार्केट में जगह बनाने में कामयाब रही है. हालांकि लाॅकडाउन का भी कंपनी की सफलता में अहम योगदान रहा है. शिक्षा के अलावा औपचारिक रूप से BYJU'S तीन साल के लिए ICC का ग्लोबल पार्टनर भी बना हुआ है. जिसकी घोषणा फरवरी 2021 में की गई थी. 

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com