ITR Filing News: 31 मार्च तक नहीं किया ये काम, तो भुगतने होंगे बुरे परिणाम

ITR Filing News: 31 मार्च तक नहीं किया ये काम, तो भुगतने होंगे बुरे परिणाम

वित्तीय वर्ष 2020-21 (FY 2020-21) के लिए अपना इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) दाखिल करने की आखिरी तारीख 31 मार्च, 2021 है. इससे पहले आईटीआर (ITR) दाखिल करने की आखिरी तारीख 31 जुलाई, 2021 थी. मगर कोविड-19 महामारी के कारण, इसे बढ़ाकर 31 मार्च, 2021 कर दिया गया था. वहीं आयकर विभाग द्वारा बनाए गए कानून के तहत, करदाताओं को विलंबित आईटीआर दाखिल करने के लिए 3 महीने का समय दिया जाता है.

आयकर कानूनों के अनुसार, अगर कोई नागरिक समय सीमा से पहले आईटीआर दाखिल करने से चूक जाता है, तो उस पर जुर्माना लग सकता है. वहीं आयकर विभाग ऐसे नागरिकों से ब्याज भुगतान की मांग भी कर सकता है, जो लोग अपना आईटीआर समय पर नहीं भरते. इसके साथ ही, उन पर आयकर अधिनियम की धारा 234 F के तहत आयकर विभाग द्वारा कार्यवाही की जाती ही. इसके अलावा, उन पर 5,000 रुपए का जुर्माना भी लगाया जा सकता है.

आपको बता दें, कि आयकर अधिनियम की धारा 234 F के तहत, जिन लोगों की आय 5,00,000 रुपए से कम पाई जाती है, उन पर आईटीआर न भरने पर 1,000 रुपए का जुर्माना लगाया जाता है. वहीं आईटीआर न भरने वाले लोगों को, आयकर विभाग की नॉन फाइलर श्रेणी में रखा जाता है.

इसके साथ ही, यदि कोई व्यक्ति आयकर विभाग द्वारा जुर्माने का भुगतान नहीं कर पाता, तो उस व्यक्ति को 3 साल की सज़ा हो सकती है. अगर किसी भी स्थिति में आप अपनी आईटीआर दाखिल नहीं कर पाते, तो आपको एक उच्च टीडीएस (TDS) का भुगतान करना होगा.

पिछले साल पेश हुए आम बजट में एक प्रस्ताव यह भी रखा गया था, कि जो लोग इनकम टैक्स रिटर्न नहीं भरते, उन्हें सामान्य से दोगुना या 5% ज़्यादा टीडीएस भरना होगा. आयकर विभाग ने पिछले हफ्ते ट्वीट कर यह जानकारी दी थी, कि 1 अप्रैल 2021 से 20 मार्च 2022 तक 2.26 करोड़ रुपए करदाताओं को 1,92,720 करोड़ से अधिक रुपए, रिफंड के रूप में जारी किए गए थे.

Related Stories

No stories found.