Titan Share Price: 30 प्रतिशत लुढ़का टाटा का ‘ताज’, खरीद और बिक्री पर हुई चर्चा

Titan Share Price: 30 प्रतिशत लुढ़का टाटा का ‘ताज’, खरीद और बिक्री पर हुई चर्चा

कहा जाता है, कि शेयर बाज़ार में कब कौन फर्श से अर्श पर या अर्श से फर्श पर पहुंच जाए, कुछ मालूम नहीं होता. वहीं ऐसा ही कुछ हुआ मार्केट के 'सरताज' कहे जाने वाले ब‍िग बुल, दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला (Rakesh Jhunjhunwala) के साथ. आपको बता दें, राकेश झुनझुनवाला को फ़िलहाल एक बड़ा नुकसान हुआ है. जहां कभी टाटा के एक स्टॉक्स ने उन्‍हें शेयर बाज़ार में बड़ा मुनाफ़ा दिया था, तो वहीं पिछले 3 महीनों में इसी स्टॉक से उन्हें 3500 करोड़ रूपए का नुकसान भी हुआ.

आपको बता दें, कि टाइटन कंपनी का यह‍ शेयर टाटा ग्रुप का है और इसका नाम है, टाइटन (Titan). वहीं पुराने जमाने की मल्टीबैगर और दिग्गज निवेशक, राकेश झुनझुनवाला की इस टॉप होल्डिंग कंपनी की हालत बहुत खराब है. कंपनी का स्टॉक पिछले हफ्ते लगभग 9% गिर गया था और इससे अपने नुकसान को, 52 हफ्तों के उच्च स्तर से 30% तक बढ़ा दिया.

गौरतलब है, कि शुक्रवार 17 जून को कंपनी के स्टॉक 6% की गिरावट के साथ 1,935 रूपए के स्तर पर थे. हालांकि, ये अभी भी 52 हफ्ते के निचले स्तर से 14% कम है. आपको बता दें, कि इसका 52 हफ्तों का उच्च स्तर 2,767.55 रूपए था, जो कि मार्च में देखा गया. ऐसा माना जाता है, कि सोने की कीमतों में उतार-चढ़ाव और शादियों के सीज़न से टाइटन के शेयर भी प्रभावित होते हैं. वहीं शादियों का सीज़न लगभग खत्म होने के कारण, इनकी कीमतों में गिरावट देखी जा रही.

राकेश झुनझुनवाला की हिस्सेदारी

बीते 3 महीनों में शेयर बाज़ार के ब‍िग बुल के करोड़ों रूपए इस स्टॉक में डूब गए. वहीं वैल्यू के ह‍िसाब से टाइटन में राकेश झुनझुनवाला की सबसे ज्‍यादा, यानी 5.1% की ह‍िस्‍सेदारी है. इसके अलावा, उनके पोर्टफोल‍ियो में कंपनी के कुल 44,850,970 शेयर भी हैं.

टाइटन पर ब्रोकरेज की राय

बीते दिनों अलग-अलग ब्रोकरेज की रिपोर्ट आई थी, जिसमें tiटाइटन के स्टॉक्स पॉजिटिव दिख रहे थे. इस दौरान, ब्रोकरेज हाउस मोतीलाल ओसवाल ने शेयर में खरीदारी की सलाह देते हुए, 2900 रूपए का टारगेट दिया था. वहीं ब्रोकरेज हाउस शेयरखान का भी शेयर पर 2900 रुपये का टारगेट और निवेश की सलाह निवेशकों को दी गई. इसके अलावा, आईसीआईसीआई डायरेक्ट का इस स्टॉक पर टारगेट 2725 रूपए है.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com