Rakesh Jhunjhunwala Portfolio: टाटा ग्रुप के स्टॉक में ‘बिग बुल’ ने लगाया पैसा

Rakesh Jhunjhunwala Portfolio: टाटा ग्रुप के स्टॉक में ‘बिग बुल’ ने लगाया पैसा

शेयर बाज़ार में अगर आप भी निवेश के लिए किसी बेहतर विकल्प की तलाश कर रहे हैं, तो इस वक़्त टाटा ग्रुप के टाटा कम्युनिकेशंस (Tata Communications) के स्टॉक्स का विकल्प अच्छा नज़र आ रहा. इसके अलावा, कंपनी के शानदार फंडामेंटल को देखते हुए दिग्गज ब्रोकरेज हाउस ने भी इस स्टॉक में निवेश की सलाह दी है. उनका ऐसा मानना है, कि कंपनी की बैलेंसशीट काफ़ी मज़बूत होने के साथ-साथ इसका कैश फ्लो भी बेहतर दिखाई दे रहा.

आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि बाज़ार के दिग्गज निवेशक और ‘बिग बुल’ नाम से मशहूर राकेश झुनझुनवाला के पोर्टफोलियो में भी यह स्टॉक देखे गए. जहां इस कंपनी में उनकी 1.1% हिस्सेदारी और पोर्टफोलियो में टाटा कम्युनिकेशन के 3,075,687 शेयर शामिल हैं. वहीं ब्रोकरेज हाउस आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज़ ने भी इसमें निवेश की सलाह और 1600 रूपए का टारगेट दिया.

वहीं हाल ही में हुए एनालिस्ट मीट में टाटा कम्युनिकेशंस की मैनेजमेंट ने प्रोडक्ट इनोवेशन, नए लॉन्च और टॉपलाइन ग्रोथ में तेजी लाने के लिए, वित्तीय फिटनेस और प्लेटफॉर्म ट्रांसफॉर्मेशन के बारे में अपनी रणनीति को दोहराया है. इसके साथ ही यह भी कहा गया, कि "हालांकि कंपनी ने पिछले 2 वर्षों में अपने वित्तीय फिटनेस लक्ष्यों को हासिल कर लिया है और अब एक स्वस्थ बैलेंस शीट और मजबूत नकदी प्रवाह है. मगर साथ ही, यह डेटा सेगमेंट में 2 अंकों की राजस्व वृद्धि हासिल करने के लिए समय-सीमा पर गैर-प्रतिबद्ध है."

क्या कहते हैं आंकडें

बाज़ार में मौजूद जानकारी के मुताबिक टाटा कम्युनिकेशन का शेयर, रिकॉर्ड हाई 1592 रूपए से 42% कमज़ोर होकर 991 रूपए पहुंच चुका. वहीं इस साल अब तक इसमें 36% और 1 साल की बात करें, तो 32% की गिरावट आई. हालांकि बीते 5 सालों में इसमें करीब 93% रिटर्न मिला है.

आज 15 जून को शेयर बाज़ार बंद होने पर, टाटा कम्युनिकेशन के स्टॉक्स शेयर बाज़ार में 4% की गिरावट के साथ 877 के स्तर पर मौजूद थे. वहीं राकेश झुनझुनवाला के पोर्टफोलियो में मौजूद टाइटन और टाटा मोटर्स के स्टॉक्स पर भी निवेशकों ने नज़र बनाई हुई है. इसके साथ ही, बाज़ार में मौजूद ब्रोकरेज का टाटा को लेकर रवैया नरम दिखाई दे रहा.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com