किसके हक में आएगी बिग बाज़ार की संपत्ति? ऐसा होगा फ्यूचर ग्रुप के कर्मचारियों का भविष्य

किसके हक में आएगी बिग बाज़ार की संपत्ति? ऐसा होगा फ्यूचर ग्रुप के कर्मचारियों का भविष्य

अरबपति उद्योगपति मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज़ (Reliance Industries) ने, हाल ही में बिग बाज़ार (Big Bazaar) का नियंत्रण अपने हाथ में लेना शुरू कर दिया है. बीते महीनों के दौरान, रिलायंस ने फ्यूचर ग्रुप के 1500 स्टोरों में से 900 से अधिक की लीज़ पर कब्ज़ा कर लिया था, जबकि कंपनी को उन्हें चलाने की अनुमति नहीं थी.

गौरतलब है, कि फ्यूचर ग्रुप जिसके 1700 से अधिक आउटलेट में बिग बाज़ार भी शामिल है, वह अपने अधिकांश आउटलेट्स के लिए लीज़ का भुगतान करने में असमर्थ रहा था. वहीं रिलायंस ने फ्यूचर रिटेल के सभी 30,000 कर्मचारियों को नौकरी की पेशकश भी की है.

वहीं बीते डेढ़ साल से फ्यूचर ग्रुप और रिलायंस के बीच हुए सौदे में अमेज़न-फ्यूचर विवाद के चलते रूकावट आई थी. जहाँ अब तक अमेज़न ने फ्यूचर के बिग बाज़ार को रिलायंस रिटेल के हाथ में जाने से रोका हुआ था. मगर, मार्च महीने की शुरुआत में ही सख्ती का रुख अपनाते हुए रिलायंस रिटेल, बिग बाज़ार को अपने कब्जे में ले चुका है. वहीं, अब रिलायंस बिग बाज़ार के रिटेल स्टोर्स की रिब्रांडिंग करते हुए किशोर बियानी के स्टोर्स को पूरी तरह से अपने अधिकार में लेने की तैयारी कर रहा है.

रिलायंस बदलेगा बिग बाज़ार का 'फ्यूचर'

सूत्रों के मुताबिक, रिलायंस अब जल्द ही बिग बाज़ार के सभी रिटेल स्टोर्स का नाम बदलकर इनका नाम 'स्मार्ट बाज़ार' रखने वाला है. आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि रिलायंस रिटेल असल में मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज की ही रिटेल सेक्टर की कंपनी है. रिलायंस रिटेल पहले ही रिलायंस ट्रेंड्स, रिलायंस फ्रेश और साथ ही रिलायंस डिजिटल जैसे रिटेल स्टोर्स को संभाल रहा है.

बिग बाज़ार के कर्मचारियों का क्या होगा?

मिली जानकारी के मुताबिक, रिलायंस ने बिग बाज़ार के जिन भी रिटेल स्टोर्स पर कब्ज़ा किया है. उन सभी रिटेल स्टोर्स के लगभग 30,000 कर्मचारियों की नौकरी और फ्यूचर फिलहाल सुरक्षित है. चूंकि, पहले जहाँ फ्यूचर ग्रुप के बिग बाज़ार बंद होने की कगार पर थे. वहीं, अब इन 30,000 कर्मचारियों को रिलायंस ने रिटेल स्टोर्स में नौकरी दे रखी है और सैलरी भी दे रहा है.

इसके साथ ही, अब रिलायंस बिग बाज़ार को 'स्मार्ट बाज़ार' बनाने वाला है. वहीं रिलायंस के मुताबिक, फ्यूचर ग्रुप के रिटेल स्टोर्स किराया चुकता न करने के चलते उसने ऐसा किया है. दूसरी तरफ, फ्यूचर ग्रुप का कहना है, कि वो अपने स्टोर्स को वापस लेने के लिए जी-तोड़ मेहनत कर रहे हैं. मगर असलियत तो यह है, कि इस समय फ्यूचर ग्रुप के स्टॉक्स तक लगातार गिरावट की मार झेल रहे हैं.

Big Bazaar का टेकओवर

फ्यूचर ग्रुप और रिलायंस इंडस्ट्रीज के बीच 24,713 करोड़ रूपए का सौदा हुए साल भर से ज्यादा समय हो चुका है. मगर अमेज़न के मुकदमों की वजह से यह सौदा पूरा नहीं हो पाया. इसके बाद रिलायंस ने अपना रुख आक्रामक करते हुए, फ्यूचर ग्रुप के बिग बाज़ार का स्टोर अपने हाथ में लेना शुरू कर दिया.

रिलायंस ने पहले बिग बाज़ार के स्टोर्स की लीज़ को अपने नाम किया, मगर फ्यूचर ग्रुप को इसे ऑपरेट करने दिया. इसके बाद रिलायंस इस बात पर स्टोर्स का नियंत्रण अपने हाथों में लेने लगी, कि फ्यूचर ग्रुप इनका किराया दे पाने में असमर्थ है.

Related Stories

No stories found.