Multibagger Stock News: इस स्टॉक ने की पैसों की बारिश, 1 लाख बने 7.23 करोड़

Multibagger Stock News: इस स्टॉक ने की पैसों की बारिश, 1 लाख बने 7.23 करोड़

शेयर बाज़ार (Stock Market) हमेशा ही अप्रत्याशित रहा है, जहां निवेशक बाज़ार के जानकारों और अपनी रिसर्च के मुताबिक, निवेश के फैसले लेते हैं. ऐसा माना गया है, कि एक निवेशक को शेयर में पैसे लगाने से पहले ‘बाय, होल्ड और फॉरगेट’ स्ट्रैटजी को भी अपनाना चाहिए. आज की बात करें, तो कुछ शेयरों ने बीते सालों में अच्छा रिटर्न दिया था. आरती इंडस्ट्रीज़ (Aarti Industries) भी उनमें से ही एक था, जिसे मल्टीबैगर स्टॉक (Multibagger Stock) कहा गया है.

वर्तमान समय में 28,688.57 करोड़ रूपए के बाज़ार मूल्यांकन के साथ, आरती इंडस्ट्रीज लिमिटेड एक लार्ज-कैप कंपनी है, जो रासायनिक उद्योग में काम कर रही है. आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि वैश्विक स्तर पर मौजूदगी के साथ, यह एक फार्मास्यूटिकल्स और विशेष रसायनों की प्रमुख भारतीय निर्माता कंपनी है. यह कंपनी, ऐसे रसायन बनाती है जिनका इस्तेमाल फार्मास्यूटिकल्स, एग्रोकेमिकल्स, पॉलिमर, एडिटिव्स, सर्फेक्टेंट, पिगमेंट और डाई के उत्पादन में किया जाता है.

इसके साथ ही, आरती इंडस्ट्रीज़ लिमिटेड के शेयर इस बात का एक सटीक उदाहरण हैं, कि कैसे शेयर बाज़ार में लंबी अवधि का निवेश आपको एक पल में करोड़पति बनाने का दम रखता है. गौरतलब है, कि इस कंपनी में 23 साल पहले किया गया 1 लाख रूपए का निवेश, आज 7.32 करोड़ रूपए बन चुका है.


आरती इंडस्ट्रीज़ का शेयर मूल्य

बाज़ार में मौजूद जानकारी के मुताबिक, 1 जनवरी 1999 को इस स्टॉक की कीमत 1.08 रूपए थी. अब अगर पिछले 5 वर्षों की बात करें, तो इस स्टॉक की कीमत 1 सितंबर 2017 को 211 रूपए देखी गई. वहीं, आज खबर लिखे जाने तक इसकी कीमत 794 रूपए पहुंच चुकी थी.


आरती इंडस्ट्रीज़ के शेयर पर बाज़ार का रुख

ब्रोकिंग फर्म शेयरखान का कहना है, कि “वित्तीय वर्ष 2021 से वित्त वर्ष 2024 तक कंपनी की मज़बूत वृद्धि नज़र आ रही है. इस वजह से, हम इस स्टॉक पर खरीद की रेटिंग बनाए रखते हैं।” इसके अलावा, एक अन्य ब्रोकिंग फर्म एचडीएफसी सिक्योरिटीज़ ने कहा, कि “हम 1,085 रूपए प्रति शेयर के लक्ष्य मूल्य के साथ, आरती इंडस्ट्रीज़ पर अपनी खरीद की सिफारिश को बनाए रखते हैं।”

यह भी पढ़ें: Mutual Fund Scheme: ये हैं निवेश के कुछ शानदार विकल्प, पढ़ें पूरी रिपोर्ट

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com