Flipkart Sale: ‘घड़ी डिटर्जेंट’ में बदला ‘लैपटॉप', जानें क्या है पूरा मामला

Flipkart Sale: ‘घड़ी डिटर्जेंट’ में बदला ‘लैपटॉप', जानें क्या है पूरा मामला
NurPhoto

आईआईएम-अहमदाबाद (IIM-Ahmedabad) के एक छात्र यशस्वी शर्मा (Yashaswi Sharma) ने, हाल ही में अपने पिता के लिए फ्लिपकार्ट (Flipkart) से लैपटॉप का ऑर्डर दिया था. मगर हैरान करने वाली बात यह है, कि उन्हें फ्लिपकार्ट से लैपटॉप कि जगह घडी डिटर्जेंट (Ghadi Detergent) के पैकेट मिले हैं. आपको बता दें, कि यह ऑर्डर बिग बिलियन डेज़ सेल 2022 के दौरान हुआ है.

सोशल मीडिया के माध्यम से, लिंक्डइन (LinkedIn) पोस्ट में यशस्वी ने कहा कि लैपटॉप की जगह घडी डिटर्जेंट पैक भेजने के बावजूद, फ्लिपकार्ट के कस्टमर सपोर्ट उन पर आरोप लगा रहे हैं. उन्होंने कहा, कि उनके पास यह साबित करने के लिए सीसीटीवी सबूत भी हैं, कि वह सच कह रहे हैं लेकिन कोई फ़ायदा नहीं हुआ. साथ ही, इस ई-कॉमर्स दिग्गज ने अपनी गलती को ठीक करने से इनकार कर दिया है.

उन्होंने कहा, कि पैकेज लेते समय उनके पिता ने जो एक गलती की, वह यह थी कि उन्हें 'ओपन-बॉक्स' डिलीवरी के बारे में पता नहीं था. आपको बता दें, यह फ्लिपकार्ट द्वारा शुरू हुई एक योजना है, जहां खरीददार को डिलीवरी एजेंट के सामने पैकेट खोलना होगा और आइटम का निरीक्षण करने के बाद ही ओटीपी देना होगा. यशस्वी कहते हैं, कि उनके पिता ने यह मान लिया था कि पैकेज़ मिलने पर ओटीपी दिया जाना था, जो कि ज्यादातर प्रीपेड डिलीवरी के मामले में होता है.

यशस्वी ने कहा, कि उन्होंने उपभोक्ता फोरम (Consumer Forum) का दरवाज़ा खटखटाने से पहले इस मुद्दे को सुलझाने के अंतिम कोशिश के रूप में पोस्ट किया है. अपनी पोस्ट में उन्होंने लिखा, “मेरे पास डिलीवरी बॉय के बिना बॉक्स का निरीक्षण कराए वापस जाने का सीसीटीवी सबूत तो है ही, इसके साथ ही घर में पैकेज को अनबॉक्स करने और उसमें कोई लैपटॉप नहीं होने का भी पूरा वीडियो है. मगर इन सभी सबूतों के बारे में बताने के बाद भी, फ्लिपकार्ट के सीनियर कस्टमर केयर एग्जिक्यूटिव द्वारा साफ शब्दों में कह दिया गया, कि “No return possible.”

उनका कहना है, कि कंपनी के ऐसे बर्ताव कि वजह से ही उन्होंने यह मामला सोशल मीडिया पर उठाया है. गौरतलब है, की यशस्वी ने पोस्ट में फ्लिपकार्ट के सीईओ (Flipkart CEO) कल्याण कृष्णमूर्ति (Kalyan Krishnamurthy) और केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) को भी टैग किया है. हालांकि, इस तरह का यह पहला मामला नहीं है. पहले भी एक व्यक्ति ने iPhone 12 का ऑर्डर दिया था, लेकिन पैकेट में कंपनी कि तरफ से निरमा साबुन मिला था. वहीं, एक अन्य मामले में एक व्यक्ति को iPhone 8 के बजाय एक डिटर्जेंट बार मिला था.

Image Source

यह भी पढ़ें: Stocks to Watch: निवेशकों की पसंद बनी शेयर बाज़ार में मौजूद ये कंपनियां

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com