Uttar Pradesh-Brahmos NG Missile: अब राज्य में बनेंगी मिसाइल, 3 साल में 100 मिसाइल बनाने का लक्ष्य

Uttar Pradesh-Brahmos NG Missile: अब राज्य में बनेंगी  मिसाइल, 3 साल में 100 मिसाइल बनाने का लक्ष्य

आधुनिकता और तरक्की की राह में Uttar Pradesh तेजी से आगे बढ़ रहा है. इसी कड़ी में अब राज्य में जल्द ही Brahmos मिसाइल का निर्माण कार्य शुरू होगा. इस बारे में जानकारी स्वयं Uttar Pradesh सरकार ने दी है. Uttar Pradesh सरकार ने मंगलवार को कहा कि राज्य में "अगली पीढ़ी की अत्याधुनिक Brahmos मिसाइलों का निर्माण किया जाएगा. इसके लिए Brahmos एयरोस्पेस कंपनी, डिफेंस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर में एक संयंत्र स्थापित करने की योजना बना रही है."

Brahmos मिसाइल को भारत सरकार के DRDO और रूस सरकार के NPOM के संयुक्त उद्यम ब्रह्मोस एयरोस्पेस द्वारा डिजाइन, विकसित और निर्मित किया गया है. एक सरकारी प्रवक्ता ने कहा कि Brahmos एयरोस्पेस के CEO और MD सुधीर कुमार मिश्रा ने UPEIDA के CEO और अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) अवनीश अवस्थी को लिखे पत्र में इस प्लांट को बनाने के लिए 200 एकड़ जमीन मांगी है. यह जमीन डिफेंस कॉरिडोर के तहत मांगी गई है. इस विषय के संदर्भ में डिफेंस टीम ने लखनऊ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भी मुलाकात की है."

लखनऊ नोड पर आवंटित की जाने वाली भूमि पर 300 करोड़ रुपये के निवेश से बनने वाले Brahmos उत्पादन केंद्र में लगभग 500 इंजीनियरों और तकनीशियनों को रोजगार मिलेगा. साथ ही, लगभग 5,000 लोगों को अप्रत्यक्ष रुप से रोजगार मिलेगा और 10,000 लोगों को उत्पादन केंद्र के माध्यम से काम मिलेगा. बता दें कि, Brahmos उत्पादन केंद्र स्थापित करने का काम जल्द ही शुरू होने की संभावना है. इन केंद्रों में रिसर्च एंड डेवलपमेंट (R&D) के कार्य भी किए जाएंगे. अगले तीन वर्षों में 100 से अधिक Brahmos मिसाइल बनाने की योजना है. Brahmos उत्पादन केंद्र के कारण Uttar Pradesh डिफेंस कॉरिडोर में रक्षा क्षेत्र में काम करने वाली कई अन्य नामी कंपनियां राज्य में आएंगी.

उद्यम अगले पांच वर्षों में 10,000 करोड़ रुपये के अतिरिक्त निर्यात ऑर्डर की संभावना भी देख रहा है. वहीं, अनुमानित ऑर्डर लगभग 42,000 करोड़ रुपये का होगा. इस परियोजना में इस्तेमाल होने वाली अन्य पुर्जों का निर्माण Uttar Pradesh में ही करने का भी इरादा है.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com