Bhawani Mandi Railway Station: दो राज्यों में बंटा हुआ एक ही रेलवे स्टेशन, आखिर क्या है इसकी कहानी, यहां पढ़े पुरी रिपोर्ट

Bhawani Mandi Railway Station: दो राज्यों में बंटा हुआ एक ही रेलवे स्टेशन, आखिर क्या है इसकी कहानी, यहां पढ़े पुरी रिपोर्ट

वैसे तो संपूर्ण भारत में बहुत से अनोखे नज़ारे देखने को मिलेंगे. लेकिन भारत के राज्य राजस्थान में मौजूद Bhawani Mandi Railway Station अपने आप में अनोखा है. इस रेलवे स्टेशन की खासियत यह है कि यह भारत के दो प्रमुख राज्यों राजस्थान एवं मध्य प्रदेश के बीच बटा हुआ है. सुनने में काफ़ी अचंभा लगेगा, लेकिन इस रेलवे स्टेशन को राजस्थान और मध्य प्रदेश दोनों ही राज्यों का हिस्सा माना जाता है. यहां पर जो कोई भी ट्रेन रुकती है, तो समझ जाइए की उस समय वह ट्रेन आधी मध्य प्रदेश और आधी राजस्थान के बीच में रुकी हुई है.

सिर्फ़ Bhawani Mandi Railway Station ही नहीं, कई घर भी ऐसे विषेश

Bhawani Mandi Railway Station अपनी भौगोलिक अवस्था की वजह से 2 राज्यों में बटा हुआ है. यदि इसके टिकट घर की बात करें तो टिकट घर भी दोनों राज्यों के लिए बंटा हुआ है. आपको टिकट खरीदने के लिए मध्यप्रदेश में बने टिकट काउंटर पर जाना होगा. लेकिन जब आप टिकट खरीदने के लिए लाइन में खड़े होंगे तो वह लाइन राजस्थान में होगी. अगर यहां पर आकर कोई ट्रेन रूकती है तो उसका एक छोर मध्यप्रदेश में होता है तो दूसरा छोर राजस्थान में खड़ा होता है. सिर्फ यह स्टेशन ही नहीं बल्कि झालावाड़ जिले के कुछ ऐसे घर भी हैं जो ऐसी ही खास विशेषता दर्शाते हैं. यहां के सीमावर्ती घर ऐसे बने हुए हैं कि उनका मुख्य दरवाजा मध्यप्रदेश में खुलता है तथा पिछला दरवाजा राजस्थान में खुलता है. यदि मुख्य दरवाज़े की बात करें तो वह भसौदा मंडी में होगा और पिछले दरवाज़े की बात करें तो वह भवानी मंडी में जा खुलेगा.

Bhawani Mandi Railway Station दोनों राज्यों में बंटा होने के कारण गैर कानूनी हरकतों का गढ़ भी बन चुका है. इस इलाके में कोई भी गैरकानूनी घटना होती है तो अपराधी एक राज्य से दूसरे राज्य में बहुत जल्दी भाग जाते हैं.

लेकिन यहां के लोग अपने रोजमर्रा के कामों के लिए दोनों ही राज्यों के बाजारों एवं स्कूलों आदि पर निर्भर हो चुके हैं. इस रेलवे स्टेशन पर आने वाले यात्रियों को एक छोर पर राजस्थान का बोर्ड दिखेगा. वहीं दूसरे छोर पर मध्य प्रदेश का बोर्ड भी दिखाई देगा.

यह भी पढ़ें: Population Control Bill: उत्तर प्रदेश और असम के बाद, उत्तराखण्ड में भी लागू हो सकता है बिल!

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com