Bajaj Finance Q1 Result 2021: कंपनी ने जारी किया पहली तिमाही का नतीजा, मुनाफा बढ़ा पर आय घटी

Bajaj Finance Q1 Result 2021: कंपनी ने जारी किया पहली तिमाही का नतीजा, मुनाफा बढ़ा पर आय घटी
INDIA - APRIL 30: Men walk past an advertisement for Bajaj Auto Ltd., outside a showroom in Mumbai, India, on Monday, April 30, 2007. (Photo by Prashanth Vishwanathan/Bloomberg via Getty Images)

भारत की प्रमुख फाइनेंस कंपनियों में शामिल, Bajaj Finance ने जून तिमाही के नतीजे जारी किए हैं. जो कि, वित्तीय वर्ष 2021-2022 के अंतर्गत हैं. इसके मुताबिक, कंपनी को 1002 करोड़ रूपये का शुद्ध लाभ हुआ है. यह लाभ पिछले वर्ष इस तिमाही में, 962 करोड़ रुपये था. इसके आधार पर कहा जा रहा है, कि Bajaj Finance की 4% ग्रोथ हुई है. वहीं बात तिमाही की करें, तो आय घटी हुई नज़र आ रही है. 

आपको बता दें, कि जून तिमाही में Bajaj Finance की आय 5900 करोड़ रुपये रही है. जो, मार्च तिमाही में, 6000 करोड़ रुपये थी. साथ ही, कंपनी की इस रिपोर्ट में, Bajaj Housing Finance Limited (BHFL) Bajaj Financial Securities Limited (BFSL) के नतीजे भी शामिल हैं. 

फिलहाल, Bajaj Finance की टोटल इनकम इस तिमाही में, 1.4 प्रतिशत बढ़ी है. इसके बाद, ये 6743 करोड़ रुपये पर पहुंच गई है. देखा गया है, कि कंपनी ने, Net Interest Income (NII) से भी अच्छी कमाई की है. इसे आसान शब्दों में, ब्याज से कमाई भी समझा जा सकता है. इसके मुताबिक, कंपनी ने 8 प्रतिशत की वृद्धि की है. ये नतीजा, पहली तिमाही की रिपोर्ट के आधार पर देखा गया है.

बात NPA की करें, तो उसमें भी वृद्धि देखी गई है, जो कि, पिछली तिमाही में 1.76 प्रतिशत थी, जबकि इस बार 2.96 प्रतिशत है. कुल मिलाकर कंपनी का मानना है, कि नतीजे अनुमान की अपेक्षा काफी कम है.  हालांकि, भारत में Covid-19 का असर, बिजनेस पर भी देखा गया है. इसके चलते, Bajaj और इससे जुड़ी कंपनी, Bajaj Finance के कारोबार पर भी काफी असर पड़ा था. इस पर, कंपनी के पूर्व चेयरमैन, Rahul Bajaj ने, शेयरधारकों को संबोधित भी किया था.

Bajaj Finance के अलावा, HDFC life Insurance ने भी तिमाही रिपोर्ट जारी की है, जहां कंपनी को पिछले वर्ष की तुलना में, 33 प्रतिशत घाटा हुआ है. वहीं, Indian Bank ने अपनी तिमाही रिपोर्ट में बड़ी छलांग लगाई है, जहां, उसे तीन गुना लाभ प्राप्त हुआ है. 

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com