Anil Deshmukh: ED की गुज़ारिश पर 15 नवंबर तक बढ़ी हिरासत, रद्द हुई ज़मानत याचिका

Anil Deshmukh: ED की गुज़ारिश पर 15 नवंबर तक बढ़ी हिरासत, रद्द हुई ज़मानत याचिका

महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री Anil Deshmukh को मनी लॉन्ड्रिंग मामले में, 15 नवंबर तक Enforcement Directorate (ED) की हिरासत में भेज दिया गया है. बताया जा रहा है, कि जमानत नहीं मिलने के कारण वह अभी हिरासत में ही रहेंगे. वहीं इससे पहले Anil Deshmukh सुप्रीम कोर्ट में भी गुहार लगा चुके हैं, लेकिन उन्हें राहत नहीं मिली थी. इसके साथ ही, Anil Deshmukh ने अपने खिलाफ़ कार्यवाही करने को लेकर, ED के खिलाफ़ याचिका दायर की थी. इस दौरान ED ने Anil Deshmukh को तीन बार तलब किया था, लेकिन वह स्वास्थ्य कारणों का हवाला देते हुए सामने पेश नहीं हुए. फ़िलहाल हिरासत बढ़ाने की अपनी दलीलों में ED ने कहा है, कि उन्हें महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री से कम से कम दो दिन और पूछताछ करने की जरूरत है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर Parambir Singh ने तत्कालीन गृहमंत्री पर, 100 करोड़ रुपये वसूलने का आरोप लगाया था. इसके बाद, देशमुख को गृह मंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा. तब से केंद्र में विभिन्न टीमों द्वारा देशमुख की जांच की जा रही है. इसी क्रम में, देशमुख के नागपुर और मुंबई स्थित घरों पर छापेमारी भी की गई थी. यह जांच, करीब दस घंटे तक चली और सम्बंधित टीम ने कुछ दस्तावेज़ भी जब्त किए. इस कार्यवाही के समय, Anil Deshmukh मुंबई में ही मौजूद थे. इस बीच ED की विशेष अदालत ने Anil Deshmukh के निजी सचिव, Sanjeev Plande और निजी सहायक Kundan Shinde को भी हिरासत में भेज दिया था. ED ने दावा किया था, कि Anil Deshmukh आईपीएस अधिकारियों की नियुक्ति और स्थानांतरण में शामिल थे.

Parambir Singh के आरोपों के बाद, Anil Deshmukh ने इसका खंडन साफ़ शब्दों में किया था. वहीं पिछले कुछ दिन पहले, इस मामले को लेकर Deshmukh द्वारा एक वीडियो जारी किया गया था. इस वीडियो में साफ तौर पर उन्होंने कहा था, कि उनके ऊपर लगाए गए सभी आरोप गलत और बिना किसी आधार के है. इसके साथ ही, इस विडियो में उन्होंने Parambir Singh पर बहुत से सवाल भी उठाए, क्योंकि इस मामले के खुलने के बाद से वो फरार थे.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com