Amit Shah: प्रधानमंत्री ने अपनी कार्यशैली से बनाई देश में पहचान

Amit Shah: प्रधानमंत्री ने अपनी कार्यशैली से बनाई देश में पहचान

केंद्रीय गृह मंत्री Amit Shah ने आज 27 अक्टूबर 2021 को तीन दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन, 'Delivering Democracy' का उद्घाटन किया. यह कार्यक्रम नई दिल्ली में अयोजित किया गया है. उनके साथ, महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री Devendra Fadnavis भी मौजूद थे. यह कार्यक्रम प्रधानमंत्री Narendra Modi के दो दशकों के कार्यकाल के उपलक्ष्य में रखा गया है.

इस कार्यक्रम को संबोधित करते हुए, Amit Shah ने कहा, 'यह गलत धारणा है, कि मोदी जी को मुझसे बेहतर कोई नहीं जानता, पीएम मोदी की कार्यशैली की बदौलत देश के लोग उन्हें मुझसे बेहतर जानते हैं. मोदी जी की पहचान, उनके राजनीतिक करियर की उपलब्धियों की वजह से है.'

Amit Shah ने इंटरनेट ट्रोल्स का भी दिया जवाब

Amit Shah ने इंटरनेट पर ट्रोल होने पर भी प्रतिक्रिया दी. उन्होंने कहा कि, "मैं दोहराता हूं, कि कोई भी देश अशिक्षित सेना से विकास नहीं कर सकता. ऐसा कहने के लिए मुझे हाल ही में ट्रोल किया गया था. लेकिन मैं फिर से कह रहा हूं, कि अगर कोई अशिक्षित, संविधान में निहित अधिकारों को नहीं समझेगा, तो वह देश के विकास में कैसे मदद कर सकता है. लेकिन इसका मतलब यह नहीं है, कि मैं इसके खिलाफ हूं, बल्कि मैं उन्हें व्यवस्था का शिकार मानता हूं, उन्हें शिक्षित करना सरकार की जिम्मेदारी है. सभी को शिक्षित करना, उन सुधारों में से एक था, जिसे पीएम मोदी ने 2001 में गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में कार्यभार संभालने के बाद शुरू किया था.'

किया पूर्व प्रधानमंत्री का जिक्र

देश के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कार्यकाल की बात करते हुए Amit Shah ने कहा, कि 'एक समय था जब मनमोहन सिंह के कैबिनेट सहयोगियों ने उन्हें देश के पीएम के रूप में स्वीकार नहीं किया था. सरकार की नीतियां पक्षपातपूर्ण थीं, ऐसा लग रहा था कि लोकतांत्रिक व्यवस्था ध्वस्त हो गई है. कोई रक्षा नीति नहीं थी, यह विदेश नीति की छाया में हुआ करती थी. लेकिन जब मोदी सरकार की घोषणा हुई, तो माहौल काफ़ी हद तक बदल गया. अब आक्रोश का माहौल पहले से काफी कम है. पीएम मोदी ने मानवीय जीडीपी पेश की है, जिसके तहत आम आदमी को सबसे ज्यादा फायदा होता है. गरीब से गरीब व्यक्ति का विकास, आर्थिक विकास का केंद्र होना चाहिए, जिस पर मोदी सरकार का ज़ोर रहा है.'

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com