Yudh Abhyas 2021: अलास्का में भारतीय सैनिकों के साथ अमेरीकी सैनिकों ने किया योग

Yudh Abhyas 2021: अलास्का में भारतीय सैनिकों के साथ अमेरीकी सैनिकों ने किया योग

एंकोरेज, अलास्का में ज्वाइंट बेस एल्मेंडोर्फ रिचर्डसन में, भारतीय और अमेरिकी सैनिकों ने ज्वाइंट योग सैशन में भाग लिया. भारतीय योग प्रशिक्षकों द्वारा सैनिकों को सूर्य नमस्कार सहित कुल 17 आसन सिखाए गए. यह 17 वें भारत-अमेरिका संयुक्त ट्रेनिंग अभ्यास के अंतर्गत आता है, क्योंकि "Yudh Abhyas 2021" चल रहा है.  14 दिन के अभ्यास में अमरीका के जनादेश के तहत संचालन के लिए संयुक्त ट्रेनिंग शामिल है.

भारतीए रक्षा मंत्रालय के अनुसार, ड्रिल में 40वीं कैवलरी रेजिमेंट की पहली स्क्वाड्रन के 300 अमेरिकी सेना के जवान और 7 मद्रास इन्फैंट्री बटालियन ग्रुप के 350 भारतीय सेना के जवान शामिल होंगे. 14-दिवसीय Yudh Abhyas 2021, की योजना में आतंकवाद विरोधी संदर्भ में संयुक्त ट्रेनिंग शामिल है.

यह 15 अक्टूबर को एक उद्घाटन समारोह के साथ शुरू हुआ. इस उदघाटन समारोह में दोनों देशों के राष्ट्रीय ध्वज को फहराना भी शामिल था. उस जगह पर भारतीय राष्ट्रगान और अमेरिकी राष्ट्रगान बजाया गया था. भारतीय रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा, कि Yudh Abhyas 2021 से दोनों बलों की स्थितिजन्य जागरूकता बढ़ेगी. इससे उन्हें ठंडी जलवायु परिस्थितियों वाले पहाड़ी इलाकों में बटालियन स्तर पर संयुक्त अभियान चलाने में मदद मिलेगी.

Yudh Abhyas 2021 में, दोनों देश बारी-बारी से अभ्यास के 17वें पुनरावृत्ति की मेजबानी कर रहे हैं.  इससे पहले, अभ्यास इस साल फरवरी में बीकानेर, राजस्थान, भारत में महाजन फील्ड फायरिंग रेंज में आयोजित किया गया था.  2004 के बाद से, Yudh Abhyas से सांस्कृतिक आदान-प्रदान और ज्वाइंट ट्रेनिंग कौशल के विकास के माध्यम से दोनों देशों के बीच सहयोग की सुविधा प्रदान की है.

हाल के वर्षों में, भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका के बीच रक्षा संबंधों में सुधार हुआ है. अमेरिका ने जून 2016 में, भारत को एक प्रमुख रक्षा भागीदार के रूप में नामित किया था.  पिछले कुछ वर्षों में, दोनों देशों ने महत्वपूर्ण रक्षा और सुरक्षा समझौतों पर भी हस्ताक्षर किए हैं. इसमें 2016 में हुए, लॉजिस्टिक्स एक्सचेंज मेमोरेंडम ऑफ एग्रीमेंट भी शामिल है. ये समझौता हस्ताक्षर भारत को अमरीकी सेनाओं को उपयोग करने की अनुमति देता है.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com