Russia Ukraine Conflict: मदद के लिए आगे आई एयर इंडिया, कहा - ‘हिम्मत से है पुरानी यारी’

Russia Ukraine Conflict: मदद के लिए आगे आई एयर इंडिया, कहा - ‘हिम्मत से है पुरानी यारी’

Russia और Ukraine बीच जारी युद्ध में तकरीबन 16 हजार भारतीय फंसे हुए हैं. वहीं भारत सरकार द्वारा नागरिकों को वापस अपने वतन लाने के लिए, हर संभव प्रयास किये जा रहे हैं. इस युद्ध के बीच अब टाटा समूह के नेतृत्व वाली एयर इंडिया भी, Ukraine में फंसे भारतीयों को वापस लाने के लिए 4 विमान भेजेगी. दरअसल, एयर इंडिया ने अब रोमानिया और हंगरी जैसे देशों के लिए सीधी उड़ानें शुरू की है.

आपको बता दें, कि रोमानिया और हंगरी की सीमाएं Ukraine से सटती हैं. ऐसे में Ukraine में फंसे छात्रों को रोमानिया और हंगरी से एयरलिफ्ट किया जाएगा. वहीं एयर इंडिया आज शनिवार को दिल्ली और मुंबई से बुखारेस्ट (रोमानिया) और बुडापेस्ट (हंगरी) के लिए विशेष उड़ानें संचालित करेगी. मिली जानकारी के मुताबिक़, यह उड़ानें एयर इंडिया के बोइंग 787 ड्रीमलाइनर विमान द्वारा संचालित की जाएंगी, जिनकी क्षमता 254 यात्रियों की है.

भारतीय दूतावास ने नागरिकों के लिए जारी की नई एडवाइजरी

नागरिकों के निकासी अभियान के बीच भारतीय दूतावास की तरफ से नई एडवाइजरी जारी की गई है. इसमें कहा गया है, कि ''सभी भारतीय नागरिक, चौकियों पर भारत सरकार के अधिकारियों से बातचीत के बिना किसी भी सीमा चौकी पर न जाएं. सभी नागरिक, भारत सरकार के अधिकारियो के साथ लगातार संपर्क बनाकर रहे और उसके बाद ही सीमा पोस्ट के पास जाएं. नागरिकों के लिए भारत सरकार ने हेल्पलाइन नंबर और आपातकालीन नंबर जारी किए हुए हैं. सीमावर्ती इलाकों में स्थिति काफ़ी संवेदनशील है और आपकी निकासी के लिए, भारतीय दूतावास लगातार पड़ोसी देशों के साथ संपर्क में हैं.''

Russia Ukraine पर Rahul Gandhi की केंद्र से मांग

वायनाड सांसद और कांग्रेस नेता Rahul Gandhi ने भी, केंद्र सरकार से छात्रों के बचाव की गुहार लगाई है. उन्होंने अपने ट्विटर अकाउंट पर Ukraine में फंसे छात्रों का एक वीडियो साझा किया है. इसके साथ ही उन्होंने ट्वीट में लिखा है, कि “इन बंकरों में भारतीय छात्रों के दृश्य काफ़ी विचलित करने वाले हैं. कई छात्र पूर्वी Ukraine में फंसे हुए हैं, जहां पर भारी हमले हो रहे हैं. मैं छात्रों के चिंतित परिवार के सदस्यों के साथ खड़ा हूं. मैं भारत सरकार से अपील करता हूं, कि तत्काल रूप से छात्रों को निकालने की व्यवस्था करें."

Related Stories

No stories found.