Adani Group Of Companies: विकास की तेज रफ्तार के साथ विवादों से भी रहा नाता

Adani Group Of Companies: विकास की तेज रफ्तार के साथ विवादों से भी रहा नाता

बीते चंद सालों के दौरान भारतीय उद्यमियों में Gautam अडानी और उनकी कंपनी Adani ग्रुप ऑफ कंपनीज के जितना विकास और संपत्ति में वृद्धि शायद ही किसी की हुई हो. कंपनियों के वैल्यूएशन और मार्केट कैप में दिन दूनी रात चौगुनी तरक्की हुई है. शेयर बाजार में जिस प्रकार Adani ग्रुप ऑफ कंपनीज के स्टॉक्स ने गगनचुंबी छलांग लगाई है, उससे Gautam Adani की संपत्ति में कई गुना इजाफा हो चुका है. इस इजाफे की बदौलत ही वह देश के सबसे अमीर आदमी मुकेश अंबानी को टक्कर देने की स्थिति में पहुंच गए हैं. यह अपने आप में एक उल्लेखनीय बात है कि कुछ सालों पहले केवल एक मध्यम रूप का औद्योगिक परिवार होने वाला यह ग्रुप आज देश के सबसे अमीर आदमी रिलायंस के मालिक मुकेश अंबानी को टक्कर देने की स्थिति में खड़ा है. हालांकि इस दौरान कंपनी विवादों से अछूती नहीं रही. इस रिपोर्ट में आज कंपनी की इसी विकास की रफ्तार और विवादों से नाता पर चर्चा करेंगे. 

कंपनी की उपलब्धियां

पिछले कुछ सालों के दौरान Adani ग्रुप आफ कंपनीज सरकारी ठेकों के मामले में बहुत ही सफल रही है. ग्रुप की कंपनियों ने सरकारी नीलामी हमें अपने प्रतिद्वंद्वियों को पीछे छोड़ते हुए ज्यादा से ज्यादा सरकारी बोली अपने नाम की हैं. इनमें भारत के मुख्य शहरों में एयरपोर्ट की देखरेख का ठेका बहुत अधिक महत्वपूर्ण माना जाता है. कंपनी की ओर से लगातार पिछले कुछ दिनों के दौरान नए-नए व्यापारों में कदम रखने की खबरें आ रही हैं. अगस्त माह के शुरुआत में Adani ग्रुप ऑफ कंपनीज के द्वारा घोषणा की गई थी कि वह पेट्रोकेमिकल्स के बिजनेस में भी उतरने जा रही है. इसे रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के लिए एक चुनौती के तौर पर देखा जा रहा है. वित्तीय वर्ष 2022 के पहले सप्ताह में Gautam अडानी द्वारा घोषणा की गई थी कि बाजार में लिस्टेड उनकी कंपनियों का कुल वैल्यूएशन 100 बिलियन डॉलर से अधिक हो चुका है.

इससे पहले ऑस्ट्रेलिया में चल रहे कार मिकाइल प्रोजेक्ट में कंपनी को कोयला हासिल हुआ था. कंपनी लंबे समय से ऑस्ट्रेलिया में अपने इस प्रोजेक्ट पर काम कर रही है. इस प्रोजेक्ट को बाजार में अडानी इंटरप्राइजेज द्वारा देखा जा रहा है. अडानी इंटरप्राइजेज के तीन मुख्य सब्सिडियरी कंपनी हैं. सबसे पहले Adani एयरपोर्ट होल्डिंग जो कंपनी के एयरपोर्ट संबंधित बिजनेस का ख्याल रखती है. इसके साथ ही Adani विल्मर और Adani रोड ट्रांसपोर्ट भी शामिल हैं. आने वाले दिनों में कंपनी की योजना है कि शेयर बाजार में Adani विल्मर का भी आईपीओ लाया जाए.

शेयर बाजार में Adani ग्रुप ऑफ कंपनी

फिलहाल शेयर बाजार में Adani ग्रुप की छह कंपनियां लिस्टेड हैं. इस ग्रुप द्वारा Adani विल्मर का आईपीओ शेयर बाजार में लाने से यह संख्या 7 हो सकती है. लंबी अवधि का ग्राफ देखा जाए तो लगभग Adani ग्रुप के सभी कंपनियों ने अपने निवेशकों को भरपूर मुनाफा कमा कर दिया है. Adani ट्रांसमिशन ने अपने निवेशकों को पिछले एक साल के दौरान 564% रिटर्न कमा कर दिए हैं. वहीं Adani ग्रीन ने भी 1 साल के दौरान अपने निवेशकों के 95% का मुनाफा दिया है.  इसके अलावा Adani Ports And Transmission, Adani Total Gas, Adani Power और Adani Enterprises ने भी अपने निवेशकों को कई गुना रिटर्न दिया है. 

विवादों से नाता

अपनी कंपनी की विकास की गगनचुंबी रफ्तार के दौरान Gautam अडानी की कंपनी को विवादों का भी सामना करना पड़ा. ऑस्ट्रेलिया में चल रहे प्रोजेक्ट को कई ह्यूमन राइट्स कार्यकर्ताओं ने गलत बताया और उसके खिलाफ प्रदर्शन कर इसे रोके जाने की मांग की. इसी तरह Gautam Adani की तीन कंपनियों पर शेयर बाजार में गलत तरीके से विदेशी निवेश हासिल करने का आरोप लगाया गया था.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com