Abhinandan Varthaman: बालाकोट के फ्लाइंग वॉरियर को मिला वीर चक्र का सम्मान

Abhinandan Varthaman: बालाकोट के फ्लाइंग वॉरियर को मिला वीर चक्र का सम्मान

भारतीय वायु सेना के ग्रुप कैप्टन Abhinandan Varthaman को भारतीय राष्ट्रपति, Ram Nath Kovind ने आज एक अलंकरण समारोह में वीर चक्र से सम्मानित किया गया है. आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि परमवीर चक्र और महावीर चक्र के बाद वीर चक्र, भारत का तीसरा सबसे बड़ा युद्धकालीन वीरता पुरस्कार है. इसके साथ ही आपको ये भी बता दें, कि Abhinandan Varthaman को हाल ही में ग्रुप कैप्टन के पद पर पदोन्नत भी किया गया था. Abhinandan Varthaman श्रीनगर स्थित 51 स्क्वाड्रन का हिस्सा थे और उन्होंने पाकिस्तानियों द्वारा शुरू किए गए हवाई हमले को विफ़ल करने के लिए उड़ान भरी थी.

Abhinandan Varthaman ने भारतीय वायुसेना के बालाकोट हवाई हमले के एक दिन बाद, 27 फरवरी 2019 को एयर स्ट्राइक में शामिल होकर, एक पाकिस्तानी F-16 लड़ाकू विमान को मार गिराया था. वहीं पाकिस्तान के खिलाफ़ हुई एयर स्ट्राइक के दौरान, Abhinandan Varthaman का MIG -21 क्षतिग्रस्त हो गया था. इसी दौरान, पाकिस्तान की सीमा से बाहर निकलते वक्त पाकिस्तानी सेना ने उन्हें हिरासत में ले लिया था. वहीं पाकिस्तान को भारत के व्यापक दबाव में, Abhinandan Varthaman को रिहा करने के लिए मजबूर होना पड़ा था.

भारत ने 26 फरवरी को जैश-ए-मोहम्मद द्वारा चलाए जा रहे पाकिस्तान में खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के बालाकोट में, जैश सुविधा पर हवाई हमला किया था. यह हमला, 14 फरवरी 2019 को जैश आतंकवादियों द्वारा जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर घात लगाकर हमला करने के बाद आया था, जिस हमले में भारत के 40 अन्य जवान भी शहीद हो गए थे.

Abhinandan Varthaman के अलावा, मेजर Vibhuti Shankar Dhoundiyal को एक ऑपरेशन में उनकी भूमिका के लिए शौर्य चक्र (मरणोपरांत) प्रदान किया गया है. इस मिशन में, Vibhuti Shankar Dhoundiyal ने पांच आतंकवादियों का सफाया कर दिया था. वहीं उनकी पत्नी, लेफ्टिनेंट Nitika Kaul और मां ने आज यह पुरस्कार ग्रहण किया है. इसके अलावा, कोर ऑफ इंजीनियर्स के सैपर Prakash Jadhav को जम्मू-कश्मीर में हुए एक ऑपरेशन में आतंकवादी हमले को बेअसर करने के लिए, मरणोपरांत दूसरे सर्वोच्च शांतिकालीन वीरता पुरस्कार कीर्ति चक्र से सम्मानित किया गया है.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com