Jal Jeevan Mission: 78.6 मिलियन ग्रामीण परिवारों को मिली नल के पानी की सुविधा

Jal Jeevan Mission: 78.6 मिलियन ग्रामीण परिवारों को मिली नल के पानी की सुविधा

देशभर के सभी गांवों में नल का पानी उपलब्ध कराने की सरकार की Jal Jeevan Mission योजना अगस्त 2019 में लाॅंच की गई थी. वहीं अब सरकारी रिपोर्ट के अनुसार, इस योजना के तहत 23 महीनों के अंतर्गत पूरे भारत में कम से कम 1,00,000 गांवों के हर घर में नल का पानी उपलब्ध कराया जा चुका है. इतने कम समय में इस लक्ष्य को प्राप्त करना किसी भी सरकार के लिए आम बात नहीं है. 

Jal Jeevan Mission की 10वीं मासिक रिपोर्ट बताती है कि, लगभग 78.6 मिलियन ग्रामीण घरों में नल के पानी की सुविधा उपलब्ध कराई गयी है. इसी के साथ 1,05,000 से अधिक गांवों के हर घर में  भी नल का पानी मिल रहा है. 

अपर सचिव और मिशन निर्देशक Bharat Lal ने रविवार को कहा कि, "हमें 'हर घर जल' के लक्ष्य को पूरा करने के लिए इसी गति और इसी पैमाने से काम करने की आवश्यकता है. इस लक्ष्य को समयबद्ध तरीके से ऐसे ही प्राप्त किया जा सकता है." 

आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि Jal Jeevan Mission के तहत गोवा, तेलंगाना, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह और पुडुचेरी के ग्रामीण क्षेत्रों में 100% नल के पानी की आपूर्ति हासिल की है. इस योजना के तहत कहा गया है कि, साल 2024 तक ग्रामीण भारत के सभी घरों में सुरक्षित और पर्याप्त पेयजल उपलब्ध करवाया जाएगा. इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए 3.60 लाख करोड़ रुपए निर्धारित किए गए हैं. 

जल स्वच्छता और हाइजीन (वॉश) संस्थान की उप प्रधानाचार्य Dr. D Hemalatha ने ज़ोर देकर कहा कि, पानी की अच्छी गुणवत्ता बेहतर स्वास्थ्य की कुंजी है. उन्होंने राज्य सरकारों से सार्वजनिक-निजी भागीदारी के माध्यम से विश्वविद्यालयों व कॉलेजों, उच्च विद्यालयों और स्वास्थ्य केंद्रों के साथ साझेदारी में पानी की गुणवत्ता की निगरानी करने का आग्रह किया है.

UNOPS की सलाहकार Madhuri Shukla ने कहा कि, जलापूर्ति कि सेवाओं के लिए पानी की गुणवत्ता की जांच ज़रूरी है. इसमें पेयजल की सुरक्षा की गुणवत्ता, गुणवत्ता जांच प्रक्रिया और निवारक उपायों के साथ-साथ जल से होने वाली बीमारियों की जांच करनी आवश्यक है.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com