World AIDS Day 2022: ये है इस साल की थीम और असरदार बचाव

World AIDS Day 2022: ये है इस साल की थीम और असरदार बचाव
Sawitree Pamee / EyeEm

हर साल 1 दिसंबर को दुनियाभर में विश्व एड्स दिवस (World AIDS Day) के रूप में मनाया जाता है, जिससे इस बीमारी के बारे में जागरूकता फैलाई जा सके. इसके साथ ही, उन सभी लोगों को याद किया जा सके जिन्होंने इससे अपनी जान गंवाई है. गौरतलब है, कि यह पहली बार साल 1988 में मनाया गया था.

आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि इस साल 1 दिसंबर को विश्व स्वास्थ संगठन (World Health Organisation) ने विश्व एड्स दिवस 2022 को चिह्नित करने के लिए ‘इक्वलाइज़’ थीम चुनी है. रिसर्च और साइंटिफिक जानकारी के मुताबिक, एड्स कई स्रोतों से फैल सकता है. वहीं, एचआईवी से संक्रमित व्यक्ति के शरीर के कुछ खास तरल पदार्थों के सीधे संपर्क में आने से यह फैलता है. यह रक्त, वीर्य, ​​मलाशय द्रव, योनि द्रव या स्तन का दूध हो सकता है.

एड्स के लक्षण

1. आप किसी संक्रमित व्यक्ति के साथ असुरक्षित यौन संबंध बनाने, सुई जैसे ड्रग उपकरण साझा करने से भी एचआईवी का शिकार हो सकते हैं.

2. यह गर्भावस्था, जन्म या स्तनपान के दौरान मां से बच्चे में फैल सकता है.

3. एक बार जब एचआईवी एड्स में परिवर्तित हो जाता है तो यह अस्पष्टीकृत थकान, बुखार, जननांगों या गर्दन के आसपास घाव, निमोनिया आदि जैसे प्रारंभिक लक्षणों में उपस्थित हो सकता है.

ऐसा भी कहा जाता है, कि पहले चरण के दौरान संक्रमित होने के 2-3 सप्ताह के भीतर, लगभग दो-तिहाई लोगों को फ्लू जैसी बीमारी होगी. ऐसे में आपको बुखार, ठंड लगना, चकत्ते, रात को पसीना, मांसपेशियों में दर्द, मुंह के छाले, गले में खराश, थकान और लिम्फ नोड्स हो सकते हैं. यह लक्षण कुछ दिनों से लेकर कुछ हफ्तों तक रह सकते हैं.

पहले चरण के बाद दूसरा चरण आता है, जिसको क्रोनिक एचआईवी संक्रमण भी कहा जाता है. यह लंबा हो सकता है और 10 साल तक भी चल सकता है. इसके बाद आता है तीसरा चरण, जिसके परिणामस्वरूप शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर हो जाती है. तेजी से वजन कम होना, बार-बार बुखार आना, रात को पसीना आना, अत्यधिक अस्पष्टीकृत थकान, लिम्फ नोड्स में सूजन, पुराने दस्त, मुंह और जननांगों में छाले, निमोनिया, तंत्रिका संबंधी विकार, अवसाद, स्मृति हानि इसके लक्षण हो सकते हैं.

अहम हैं यह बातें

1. सुनिश्चित करें कि आप सुरक्षात्मक तकनीकों का उपयोग कर रहे हैं और दूषित सुई का उपयोग नहीं कर रहे हैं.

2. मां से बच्चे में संक्रमण को रोकें. अब अगर किसी को अपने शरीर में संक्रमण के बारे में पता है, तो सुनिश्चित करें कि वह सही से उसका इलाज कर रहे हों.

Image Source

यह भी पढ़ें: निमोनिया होने से पड़ सकता है दिल का दौरा, ये हैं रोकथाम के संकेत और सुझाव

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com