Praveen Kumar Sobti Demise: Mahabharat के भीम का हुआ निधन, बीमारी और आर्थिक तंगी से थे परेशान

Praveen Kumar Sobti Demise: Mahabharat के भीम का हुआ निधन, बीमारी और आर्थिक तंगी से थे परेशान

भारत की स्वर कोकिला Lata Mangeshkar के निधन के बाद, अब मनोरंजन जगत से एक और बुरी खबर सामने आ रही है. साल 1988 में BR Chopra द्वारा निर्देशित टेलीविज़न शो ‘Mahabharat’ में भीम का किरदार निभाने वाले, Praveen Kumar Sobti का सोमवार को दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया.

खबरों के अनुसार, पंजाब के रहने वाले Praveen Kumar Sobti लंबे समय से बीमारी और आर्थिक तंगी से जूझ रहे थे. उन्होंने अपने मज़बूत शरीर के दम पर एक खिलाड़ी के तौर पर अपने करियर की शुरुआत की थी. वह एक अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी रह चुके हैं, जिन्होंने Asian Games में 2 स्वर्ण पदक और 2 कांस्य पदक जीते हैं. वहीं Commonwealth Games में उन्होंने 1 रजत पदक अपने नाम किया है.

इसी के साथ, साल 1967 में उन्हें ‘Arjuna Award’ से सम्मानित भी किया गया था. अभिनय और खेल के अलावा, उन्होंने राजनीति में भी अपना हाथ आज़माया था. इसके साथ ही, उन्होंने केवल 20 साल की उम्र में Border Security Force (BSF) में बतौर सैनिक रूप में सेवाएं दी थी.

Praveen Kumar Sobti ने अपने अभिनय करियर की शुरुआत, साल 1982 में आई फिल्म 'Raksha' से की थी. इस फिल्म में बॉलीवुड अभिनेता Jeetendra मुख्य भूमिका में थे. इसके बाद, Praveen Jeetendra के साथ दूसरी बार फिल्म ‘Meri Aawaz Suno’ में नज़र आए थे. अपने लंबे फिल्मी करियर में Praveen Kumar Sobti ने 50 से ज़्यादा फिल्मों में काम किया है, लेकिन दर्शकों के बीच वह अपने टेलीविज़न शो ‘Mahabharat’ में निभाए भीम के किरदार से जाने जाते थे.

Praveen Kumar Sobti को आखिरी बार, साल 2013 में रिलीज़ हुई फिल्म ‘Mahabharat Aur Barbareek’ में देखा गया था. इस फिल्म में भी उन्होंने भीम का ही किरदार निभाया था. इसके बाद, उन्होंने अभिनय से किनारा करते हुए राजनीति में प्रवेश किया, जहां उन्होंने Aam Aadmi Party के टिकट पर दिल्ली के वज़ीरपुर से चुनाव लड़ा, लेकिन जीत नहीं पाए.

इसके कुछ समय बाद, उन्होंने Aam Aadmi Party का साथ छोड़ दिया और Bharatiya Janata Party (BJP) में शामिल हो गए. खबरों के अनुसार, वह कुछ समय से आर्थिक तंगी से गुज़र रहे थे. अपनी आर्थिक तंगी की जानकारी देते हुए, उन्होंने कई बार सरकार से पेंशन की गुहार भी लगाई थी.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com