Kangana Ranaut: 4 बार की राष्ट्रीय पुरुस्कार विजेता के ‘धाकड़’ तेवर, अब इनपर बरसीं क्वीन

Kangana Ranaut: 4 बार की राष्ट्रीय पुरुस्कार विजेता के ‘धाकड़’ तेवर, अब इनपर बरसीं क्वीन

बॉलीवुड अभिनेत्री Kangana Ranaut हर दूसरे दिन सुर्खियों का हिस्सा बनी रहतीं हैं. जहां हाल ही में उन्होंने बेहतरीन अभिनय के लिए अपना चौथा राष्ट्रीय पुरस्कार जीता है. तो वहीं फ़िल्म Tejas की शूटिंग के लिए, इन दिनों अभिनेत्री अंडमान निकोबार द्वीप पहुंची हुईं हैं. अपनी इस यात्रा के दौरान, उन्होंने पोर्ट ब्लेयर में स्थित काला पानी कारागार का भी दौरा किया. साथ ही, उन्होंने इस दौरे से जुड़ा अपना अनुभव सोशल मीडिया पर भी साझा किया है.

दरअसल, अपने सोशल मीडिया हैंडल से अभिनेत्री ने काला पानी कारागार की कई तस्वीरें साझा की है. आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि साझा की गई कई तस्वीरों में Kangana Ranaut उस कमरे में बैठीं नज़र आ रहीं हैं, जहां Veer Savarkar को बंदी बना कर रखा गया था. अपने पोस्ट पर अभिनेत्री ने लिखा है, कि "सावरकर जी को जिन कष्टों का सामना करना पड़ा होगा, उनके बारे में महसूस करते हुए मेरी अंतरात्मा हिल गई है. उन्हें और उनके साहस को मेरा कोटि-कोटि नमन. जो किताबों में पढ़ाया जाता है, वह सच्चा इतिहास नहीं है. सच्चा इतिहास वह है, जो इन कोठरियों में बंद है". Kangana ने इसके साथ ही, कारागार की कई और तस्वीरें भी अपनी इंस्टाग्राम स्टोरी पर साझा की है और उन लोगों पर सवाल उठाए है, जो सावरकर को वीर नहीं मानते हैं.

गौरतलब है, कि Kangana Ranaut द्वारा साझा की गईं तस्वीरों में से एक में, उन्होंने बड़ी बेबाकी से जिहादी विचारधारा पर भी सख्त टिप्पणी की है. उन्होंने इस पोस्ट के ज़रिए, भारत में रह रहें कई गुटों पर निशाना साधा है. उन्होंने अपना अनुभव बयान करते हुए लिखा है, कि "क्या आप इस जगह पर दशकों तक रहने का दर्द समझते हैं? अखंड भारत का सपना देखने का यही मूल्य, Veer Savarkar जी को चुकाना पड़ा था".

आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि Kangana Ranaut को हाल ही में राष्ट्रीय पुरुस्कार से भी सम्मानित किया गया है. वहीं Kangana के अलावा इस मौके पर, दक्षिण के सुपरस्टार अभिनेता Rajinikanth, Dhanush, आदि भी मौजूद थे. वहीं अभिनेत्री के काम की बात करें, तो फ़िल्म Thalaivii को मिले बेशुमार प्यार और सफलता के बाद, अब वह अपनी दूसरी फ़िल्मों में व्यस्त हो गईं हैं. 

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com