Aryan Khan Drugs Case: जेल से मिली रिहाई, इन शर्तों पर टिकी है ज़मानत की नींव

Aryan Khan Drugs Case: जेल से मिली रिहाई, इन शर्तों पर टिकी है ज़मानत की नींव

क्रूज ड्रग्स मामले में फंसे Aryan Khan आज 27 दिनों के बाद जेल से बाहर आए हैं. जेल अधिकारियों ने उनकी रिहाई की प्रक्रिया सुबह ही शुरू कर दी थी. उन्हें आज सुबह 11 बजे, जेल से रिहा कर दिया गया. जानकारी के मुताबिक़, आज सुबह 5:30 बजे आर्थर रोड जेल की ज़मानत पेटी खोली गई थी, जिसके बाद उनकी ज़मानत की कागज़ी कारवाई शुरू की गई. 

गौरतलब है, कि विशेष अदालत में ज़मानत याचिका खारिज़ होने के बाद, मुंबई उच्च न्यायालय ने Aryan Khan को ज़मानत दी है. हालांकि, ज़मानत के बाद भी उनकी मुश्किलें कम होती नहीं दिख रही. दरअसल, मुंबई उच्च न्यायालय ने कई शर्तों पर Aryan Khan की बेल मंजूर की है, अगर वह उनमें से एक भी शर्त को तोड़ते हैं, तो उनकी ज़मानत खारिज़ की जा सकती है. 

अदालत ने Aryan Khan के सामने रखीं ये शर्तें  

अदालत ने ज़मानत के लिए Aryan Khan के समक्ष कई शर्तें रखी हैं, जो कि इस प्रकार हैं:

1. उन्हें ज़मानत के लिए एक लाख रुपयों का निजी बॉन्ड भरना होगा. 

2. वह अदालत की मंजूरी के बिना देश नही छोड़ सकते साथ ही, पासपोर्ट भी जमा करवाना होगा. 

3. ड्रग्स मामले को लेकर वह मीडिया में किसी भी तरह की बयानबाजी नहीं करेंगे.

4. किसी भी समय बुलाए जाने पर, Aryan Khan को NCB मुख्यालय पहुंचना होगा. 

5. सप्ताह में एक दिन शुक्रवार को 12 बजे से 2 बजे के बीच NCB मुख्यालय पहुंच कर हाज़िरी देनी होगी. 

6. ड्रग्स मामले में फंसे दूसरे आरोपियों या व्यक्तियों से संपर्क नहीं करेंगे. 

7. Aryan Khan निजी तौर पर या फिर किसी भी तरह से सबूतों और गवाहों से छेड़छाड़ नहीं करेंगे. 

साथ ही, अदालत ने सख्त हिदायत दी है, कि अगर वह इन शर्तों में से किसी भी शर्त को तोड़ते है तो उनकी ज़मानत को तुरंत ही खारिज़ कर दिया जाएगा.

आपको बता दें, कि सुबह से खबरें आ रही थी कि Aryan Khan को लेने के लिए उनके पिता Shahrukh Khan आने वाले हैं. लेकिन उन्हें लेने के लिए वहां Shahrukh Khan के बॉडीगार्ड और करीबी Ravi ही वहां मौजूद थे. Shahrukh Khan के घर मन्नत पर कल से ही Aryan Khan की वापसी की तैयारियां शुरू कर दी गईं थीं. साथ ही, मन्नत के बाहर काफी भीड़ देखने को मिल रही है.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com