शीर्ष 40 अमेरिकी कंपनियों ने भारत में कोरोना स्थिति से निपटने के लिए बनाई टास्क फोर्स

A medical worker wearing personal protective equipment (PPE) takes a nasal swab sample from a man to test for the Covid-19 coronavirus at the Thai-Japanese Stadium, also known as the Bangkok Youth Center, in Bangkok on April 27, 2021. (Photo by Lillian SUWANRUMPHA / AFP) (Photo by LILLIAN SUWANRUMPHA/AFP via Getty Images)
A medical worker wearing personal protective equipment (PPE) takes a nasal swab sample from a man to test for the Covid-19 coronavirus at the Thai-Japanese Stadium, also known as the Bangkok Youth Center, in Bangkok on April 27, 2021. (Photo by Lillian SUWANRUMPHA / AFP) (Photo by LILLIAN SUWANRUMPHA/AFP via Getty Images)

 भारत को ऑक्सीजन सिलेंडर और मेडिकल किट जैसे संसाधन प्रदान करने के लिए बढ़ाया कदम

कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के चलते देश मुश्किल परिस्थितियों से गुजर रहा है। देश में स्वास्थ्य संबंधित सेवाओं और ऑक्सीजन का भारी अभाव है, नतीजतन संक्रमितों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ रहा है। इस संकट की घड़ी में, विश्व भर के देश और नेता, भारत की मदद करने के लिए आगे आए हैं। इसी कड़ी में अमेरिका की शीर्ष 40 कंपनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों ने कोरोना के खिलाफ भारत की लड़ाई में सहायता करने का फैसला किया है। उन्होंने साथ मिलकर ना केवल एक वैश्विक स्तर की टास्क फोर्स का निर्माण किया है बल्कि भारत को मेडिकल संसाधन प्रदान करने हेतु कदम भी बढ़ाए हैं।

डिलाइट के सीईओ पुनीत रंजन के अनुसार यह सराहनीय पहल अमेरिका वाणिज्य चैंबर की  अमेरिका – भारत व्यापार परिषद, अमेरिका – भारत रणनीतिक एवं साझेदारी फोरम और बिजनेस राउंड टेबल की साझेदारी में की गई है। इनकी मदद से सोमवार को 20,000 ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर भारत पहुंचाने का निर्णय लिया गया है। अमेरिका के सरकारी और गैर सरकारी संगठनों की मदद से भारत को ऑक्सीजन, वैक्सीन एवं अन्य मेडिकल संसाधन पहुंचाए जा रहे हैं। भारत को स्वास्थ्य संबंधी राहत पहुंचाने वाली इस टास्क फोर्स का नाम 'ग्लोबल टास्क फोर्स ऑन पेंडेमिक रिस्पॉन्स: मोबिलाइजिंग फॉर इंडिया' रखा गया है। 

पुनीत रंजन ने, जो बाइडेन और नरेंद्र मोदी के बीच हुई वार्ता का स्वागत करते हुए कहा है कि, भारत और अमेरिका पुराने साथी हैं। उन्होंने अमेरिका द्वारा भारत को मेडिकल आपूर्ति भेजने की भी सराहना की है। साथ ही, उन्होंने ये भी कहा कि उनकी टास्क फोर्स 10 और 45 लीटर क्षमता के ऑक्सीजन सिलेंडर और मेडिकल किट जैसे उपकरणों की व्यवस्था पर ध्यान दे रही है।

यह टास्क फोर्स अमेरिका में भारत के राजदूत तरनजीत सिंह संधू से भी संपर्क साध रही है। भारतीय राजदूत ने उन्हें जरूरी संसाधनों जैसे एंटीवायरल दवाएं, ऑक्सीजन सिलेंडर  और कॉन्सेंट्रेटर, मेडिकल किट और वैक्सीन बनाने के लिए कच्चे माल की लिस्ट थमा दी है। आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि इस टास्क फोर्स में अमेरिकी औद्योगिक क्षेत्र की सभी प्रकार की कंपनियां शामिल हैं, जैसे कि ई कॉमर्स, रिटेल, फार्मा आदि।

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com