Covid-19 in Delhi: क्या टेस्टिंग में कमी से राजधानी में संक्रमण के मामलों में आई गिरावट?

Covid-19 in Delhi: क्या टेस्टिंग में कमी से राजधानी में संक्रमण के मामलों में आई गिरावट?

राजधानी दिल्ली में पिछले कुछ दिनों से Covid-19 के नए मामलों में कम देखी जा रही है. इसके साथ, संक्रमण दर में भी गिरावट आई है. दिल्ली ने अब तक एक दिन में सबसे ज़्यादा 28,867 मामले दर्ज किए हैं. वहीं 15 जनवरी को दिल्ली में 30.64%, 14 जनवरी को 30.64%, 13 जनवरी को 29.21%, 12 जनवरी को 26.22% और 11 जनवरी को 25.65% संक्रमण दर थी.

अगर पिछले 2 दिनों में हुई Covid-19 टेस्टिंग की बात की जाए, तो दिल्ली में 16 जनवरी को 65,621 टेस्ट, तो वहीं 17 जनवरी को 44,762 टेस्ट हुए थे. इन आंकड़ों को देखें, तो पिछले 2 दिनों में राजधानी में टेस्टिंग की संख्या में करीब 20,859 की गिरावट आई है. जहां देशभर में Covid-19 के मामले काफी तेज़ी से बढ़ रहे हैं, वहीं दिल्ली के यह आंकड़े शंका पैदा करने वाले हैं, कि क्या सच में दिल्ली में मामले सरकार द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों के कारण कम हो रहे हैं?

दिल्ली में 16 जनवरी को 18,286 Covid-19 के नए मामले सामने आए थे, तो वहीं 17 जनवरी को 12,527 नए मामले दर्ज किए थे. ऐसे में सवाल यह उठता है, कि क्या दिल्ली में कोरोना काबू में आ रहा है, या टेस्टिंग में कमी के कारण, ममलों में कमी दर्ज की जा रही है?

दिल्ली सरकार के आंकड़े बताते हैं, कि राजधानी में जांच कम हो रही है. इसके साथ ही, राजधानी में 10 जनवरी से हुई Covid-19 टेस्टिंग की बात कि जाए, तो टेस्टिंग की संख्या में लगातार कमी दर्ज की गई है. दिल्ली में 17 जनवरी को 44,762, 16 जनवरी को 6,562,15 जनवरी को 67,624, 14 जनवरी को 79,578, 13 जनवरी को 98,832 टेस्ट किए गए थे. वहीं 12 जनवरी को 1,05,102, 11 जनवरी को 82,884 और 10 जनवरी को 76,670 टेस्ट किए गए थे.

क्या इस वजह से दिल्ली में घट रही है Covid-19 टेस्टिंग?

Covid-19 की टेस्टिंग में कमी आने की एक वजह, Indian Council of Medical Research (ICMR) के नए दिशानिर्देशों को माना जा रहा है. ICMR के नए दिशानिर्देशों के मुताबिक, संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आए लोगों को Covid-19 की जांच कराने की ज़रूरत नहीं है. ICMR द्वारा जारी किये गए नए निर्देशों के मुताबिक, केवल उन्हीं लोगों को जांच कराने की ज़रूरत है, जिनकी उम्र 60 साल से ऊपर है और जिन्हें कोई गंभीर बीमारी है. आपको बता दें, कि सरकार ने बुज़ुर्गों और गंभीर बीमारी से जूझ रहे लोगों को हाई रिस्क श्रेणी में रखा है.

Covid-19 की टेस्टिंग घटने से नए मामलों में जब कमी आने पर सवाल उठे, तो दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री Satyendar Jain ने कहा, कि टेस्ट कम होने से मामले कम नहीं होते. वहीं दिल्ली सरकार ने Covid-19 के प्रसार को रोकने के लिए, जो कड़े प्रतिबंध लागू किए हैं वह भी मामलों में कमी की एक वजह हो सकती है. मगर क्या सच है और क्या जूठ, यह तो केवल सरकार ही जानती है.

यह भी पढ़ें: Covid-19 Omicron Vaccine: भारत को जल्द मिलेगा mRNA प्लेटफार्म पर बना पहला Omicron टीका

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com