अब राजधानी Delhi में नहीं होगा नाइट कर्फ्यू, अन्य पाबंदियां भी होंगी खत्म

अब राजधानी Delhi में  नहीं होगा नाइट कर्फ्यू, अन्य पाबंदियां भी होंगी खत्म

राजधानी Delhi में कोविड महामारी से जुड़ी पाबंदियां लगभग खत्म कर दी गई हैं. आज शुक्रवार को दिल्ली डिजास्‍टर मैनेजमेंट कमेटी की बैठक में, आने वाले सोमवार से नाइट कर्फ्यू हटाने का फैसला हुआ. वहीं, कोरोना वायरस के मामलों में लगातार गिरावट को देखते हुए DDMA ने कई और पाबंदियों को भी खत्म करने का फैसला किया है.

आपको बता दें, कि अब यात्री मेट्रो और बसों में खड़े होकर सफर कर सकेंगे. वहीं, दिल्ली के अंदर मास्‍क न पहनने पर जुर्माना 2,000 रुपये से घटाकर 500 रुपये कर दिया गया है. बीते दो साल से ऑनलाइन माध्यम से चल रही स्कूली कक्षाएं भी 1 अप्रैल से ऑफलाइन हो चलेंगी, यानी एक अप्रैल से ऑनलाइन क्लास की व्यवस्था खत्म कर दी जाएगी. दिल्ली के मुख्यमंत्री, अरविंद केजरीवाल ने जानकारी दी है, कि DDMA ने अपनी बैठक में राजधानी के सुधरे हालात, लोगों की तकलीफों और नौकरी जाने के कारण पेश आई परेशानियों को देखते हुए यह अहम फैसला लिया है.

लेकिन, इसी के साथ Delhi के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपील की है, कि सभी इस महामारी को लेकर जरूरी सावधानियों का पालन करते रहें और दिल्‍ली सरकार भी इस पर सख्‍ती से नज़र रखेगी. रिपोर्ट्स के अनुसार, Delhi में कोरोना के सभी प्रतिबंधों को हटा दिया जाएगा, लेकिन सकारात्मकता दर 1 फीसदी से कम होनी चाहिए. वहीं, दिल्ली चिड़ियाघर एक मार्च से पर्यटकों के लिए खुल जायेगा, लेकिन प्रतिदिन 3 हजार लोगों को ही जाने की अनुमति दी जाएगी.

Delhi में घटते कोरोना वायरस के मामलों के साथ कई तरह की पाबंदियों को तो हटा दिया गया है. लेकिन, अभी भी बाज़ारों के खुले रहने का समय रात के 8 बजे तक ही है, इसे लेकर व्यापारियों में नाराजगी देखने को मिल रही है. सुबह 10 बजे से लेकर रात के 10 बजे तक टाइम बढ़ाने की मांग व्यापारियों द्वारा की जा रही है. कई व्यापारियों को उम्मीद है, कि अधिकारी इस परेशानी को समझेंगे और अहम फैसला लेंगे.

Delhi सरकार द्वारा जारी हुए आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटों में दिल्ली में 556 नए मामले सामने आए हैं. वहीं, संक्रमण दर 1.10 फीसदी दर्ज की गई है. इस दौरान महामारी से 6 मरीजों की जान चली गई है. वहीं, राहत की बात यह है कि बीते 24 घंटों में 618 मरीज डिस्चार्ज हुए हैं.

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com