Covid-19 Vaccine for Children: DCGI से अब इन टीकों को भी मिली मंज़ूरी

Covid-19 Vaccine for Children: DCGI से अब इन टीकों को भी मिली मंज़ूरी

देश में कोविड-19 (Covid-19) के मामले एक बार फिर से बढ़ते दिख रहे हैं. वहीं संक्रमण का खतरा बच्चों में भी फैलता जा रहा है. इसके मद्देनज़र बच्चों के टीकाकरण को लेकर केंद्र सरकार ने मंगलवार, 26 अप्रैल को 3 बड़े फैसले लिए हैं. आपको बता दें, कि अब तक देश में 12 साल से ऊपर के बच्चों को कोविड-19 से बचाव के लिए टीका लग रहा था. मगर अब 5-12 साल के बच्चों को भी वैक्सीन यानी कि टीका लगाया जाएगा.

स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया (Mansukh Mandaviya) ने बताया, कि ड्रग्स रेगुलेटर (DCGI) ने 6 से 12 साल के बच्चों के लिए कोवैक्सीन (Covaxin) और 5 से 12 साल के बच्चों के लिए, कोर्बीवैक्स (Corbevax) के इस्तेमाल को मंज़ूरी दे दी है. इसके अलावा, ज़ायडस कैडिला (Zydus Cadila) ज़ायकोव-डी (ZyCoV-D) को भी 12 साल से ऊपर के लोगों पर इस्तेमाल की मंज़ूरी मिल गई है.

कोविड-19 वैक्सीनेशन पर हुए तीन बड़े फैसले

1. 6 से 12 साल के बच्चों को कोवैक्सीन की डोज़ लगाई जाएगी. गौरतलब है, कि कोवैक्सीन अभी 15 साल से ऊपर के लोगों को ही लगाई जा रही है.


2. 5 से 12 साल के बच्चों पर कोर्बीवैक्स के इस्तेमाल को मंज़ूरी मिल गई है. अब तक कोर्बीवैक्स 12 से 14 साल के बच्चों को लगाई जा रही थी.


3. ज़ायडस कैडिला की ज़ायकोव-डी को 12 साल से ऊपर के लोगों पर इस्तेमाल की मंज़ूरी मिली है. यह अभी तक वयस्कों को ही लगाई जा सकती थी.

आपको बता दें, कि सरकार ने यह फैसला ऐसे समय पर लिया है, जब दिल्ली-एनसीआर के कई स्कूलों में बच्चों के कोविड-19 से संक्रमित होने की खबरें लगातार सामने आ रही हैं. वहीं विशेषज्ञों का भी कहना है, कि बच्चों को भी वयस्कों की तरह ही कोरोना का खतरा है. हालांकि, बच्चों में यह संक्रमण बहुत ज़्यादा गंभीर नहीं होता है. गौरतलब है, कि देश में 12 साल से ऊपर के लोगों का टीकाकरण चल रहा है और 5 साल से ऊपर के बच्चों का टीकाकरण कब से शुरू होगा, इस बारे में सरकार जल्द ही फैसला ले सकती है.

कोविड-19 के नए XE वेरिएंट ने बढ़ाई चिंता

आपको बता दें, कि कोविड-19 की बाकी लहरों में बच्चों पर इसका असर ज़्यादा गंभीर नहीं था. मगर अब धीरे-धीरे बच्चे भी इस नए XE वेरिएंट की चपेट में आ रहे हैं. विशेषज्ञों का कहना है, कि पिछले 2 हफ्तों में बच्चों में फ्लू जैसे लक्षणों में बढ़ोतरी हुई है.

कोरोना के इस नए वेरिएंट से संक्रमित बच्चों को शरीर में सूजन हो सकती है, जिसका सामना बच्चों को कई हफ्तों तक भी करना पड़ सकता है. इसके अलावा बुखार, गर्दन में दर्द, रैशेज, आंखें लाल होना, उल्टी या दस्त, थकान महसूस होना, होंठ फटना, हाथ-पैरों में सूजन, गले में सूजन और पेट दर्द भी इस नए XE वेरिएंट के लक्षण हैं.

आपको बता दें, कि देश में बच्चों को कोविड-19 के विरुद्ध टीका लगाने की शुरुआत, इस साल 3 जनवरी से हुई थी. शुरुआत में 15 से 17 साल के बच्चों को कोवैक्सिन की ही डोज़ लगाई जा रही थी. मगर बाद में 16 मार्च से, 12 साल से अधिक उम्र के बच्चों के लिए भी टीकाकरण शुरू कर दिया गया.

स्वास्थ्य मंत्रालय के पास मौजूद आंकड़ों के मुताबिक, 12-14 साल के आयु वर्ग के बच्चों के लिए कोरोना के विरुद्ध टीकाकरण 16 मार्च, 2022 को शुरू किया गया था. वहीं अब तक उन्हें 2.70 करोड़ (पहला डोज़) और 37 लाख (दूसरा डोज़) टीके लगाए जा चुके हैं. इसके साथ ही, 15-18 साल के आयु वर्ग के बच्चों के टीके की 5.82 करोड़ पहली और 4.15 करोड़ दूसरी डोज़ भी लगाया जा चुकी है.

Related Stories

No stories found.