Covid-19 Updates: दूसरी लहर में ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई एक भी मृत्यु, राज्य सभा में केंद्रीय मंत्री ने दिया बयान

Covid-19 Updates: दूसरी लहर में ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई एक भी मृत्यु, राज्य सभा में केंद्रीय मंत्री ने दिया बयान

Covid-19 की दूसरी लहर, देश में भारी तबाही मचा चुकी है. देश के स्वास्थ्य ढांचे की सच्चाई भी सबके सामने आ गई थी. अव्यवस्था का ऐसा भयानक मंजर था कि कहीं अस्पतालों में बेड्स नहीं थे तो कहीं लोगों को ऑक्सीजन नहीं मिल पा रहा था. सिर्फ विपक्ष ने ही नहीं, सुप्रीम कोर्ट ने भी इस समय केंद्र सरकार को ऑक्सीजन की कमी को लेकर फटकार लगाई थी. केंद्र सरकार द्वारा अब राज्य सभा में यह कहा गया है कि कोरोना की दुसरी लहर में देश में एक भी मृत्यु ऑक्सीजन की कमी के कारण नहीं हुई है.

दरअसल, राज्यसभा के मॉनसून सत्र में सोमवार को चल रही चर्चा में कांग्रेस के के.सी वेणुगोपाल ने सरकार को Covid-19 को लेकर घेरा था. उन्होंने यह सवाल उठाया था कि ऑक्सीजन की कमी होने के कारण हुई मौतों पर वह क्या जानकारी देना चाहेंगे. इस पर स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से डॉ भारती पंवार ने जवाब दिया कि देश में कोरोना की दूसरी लहर में ऑक्सीजन की कमी से एक भी मृत्यु नहीं हुई है. सरकार के अनुसार एक भी ऑक्सीजन की कमी से मृत्यु की जानकारी उनके पास नहीं आई है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह भी कहा कि दूसरी लहर में ऑक्सीजन की मांग काफी बढ़ जरूर गई थी.

हालांकि केंद्रीय मंत्री द्वारा इस बयान के बाद विपक्ष के कई लोगों ने इस बयान पर सीधा सवाल उठाया है. राहुल गांधी ने भी ट्वीट किया, "सिर्फ ऑक्सीजन की ही कमी नहीं थी. संवेदनशीलता और सत्य की भी भारी कमी थी, आज भी है." दूसरी ओर कांग्रेस सांसद वेणुगोपाल ने सरकार पर लोगों को गुमराह करने का भी आरोप लगाया है. उनका कहना है कि "केंद्रीय मंत्री मनसुख मंडविया ने गलत जानकारी देकर सदन को गुमराह किया है. उनके खिलाफ विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव लाया जाना चाहिए." 

गौरतलब है कि सिर्फ राजनैतिक हस्तियों ने नहीं, देश की आम जनता ने भी सरकार के इस बयान की आलोचना की है. केंद्र सरकार का लिखित जवाब सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है. इसी के साथ लोग सरकार पर आम जनता को गुमराह करने और ऑक्सीजन की कमी से गुज़र जाने वाले लोगों का अपमान करने का आरोप लगा रहे हैं.

दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने भी अपने एक बयान में कहा, "Covid-19 की दुसरी लहर की शुरुआत से ही ऑक्सीजन की कमी की समस्या बार–बार सामने आई है. सरकार अपनी अव्यवस्था को छुपाने के लिए इस समस्या को दबाने की कोशिश कर रही है. "संसद में सरकार के इस बयान के बाद भी खूब हंगामा मचा था. कांग्रेसी नेता डॉ मल्लिकार्जुन खड़गे ने भी सरकार पर लोगों को और सदन को गुमराह करने को निंदनीय बताया था. इस पर केंद्रीय मंत्री डॉ मनसुख मंडविया ने कहा कि, केंद्र सरकार यह आंकड़े राज्य सरकार द्वारा दिए गए आंकड़ों को कंपाइल कर के छांपती है. इसके अलावा इसमें केंद्र सरकार की कोई भूमिका नहीं है.

यह भी पढ़ें: Covid-19 Updates: असम में कोरोना के दोहरे संक्रमण का मामला आया सामने, संक्रमित खुद है एक डॉक्टर

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com