Covid-19 In India: देश में आये 18,346 नए मामले, रिकवरी रेट पहुँचा 97.93 %

Covid-19 In India: देश में आये 18,346 नए मामले, रिकवरी रेट पहुँचा 97.93 %

भारत में Covid-19 के 18,346 नए मामले सामने आए हैं. जबकि पिछले 24 घंटों के दौरान संक्रमण से 29,639 लोग ठीक हुए हैं. जिसके बाद Covid-19 से अब तक ठीक होने वालों की संख्या 3,31,50,886 हो गई है. वहीं फिलहाल देश में सक्रिय मामलों की संख्या 2,52,902 है, जो कुल मामलों का 0.75 प्रतिशत है. स्वास्थ्य मंत्रालय के आकड़ों के अनुसार, भारत का रिकवरी रेट अब 97.93 प्रतिशत हो गया है.

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, भारत में दैनिक पॉजिटिविटी रेट 1.61 प्रतिशत है, जो पिछले 36 दिनों से 3 प्रतिशत से कम है. जबकि साप्ताहिक पॉजिटिविटी रेट 1.66 प्रतिशत है, जो 102 दिनों से 3 प्रतिशत से नीचे बनी हुई है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, देश में पिछले 24 घंटों में Covid-19 के 18,346 नए मामलों में, केरल से ही 8,850 मामले सामने आए हैं. पिछले 24 घंटों में Covid-19 से देश में 263 लोगों की मौत हुई है. इसी के साथ भारत में संक्रमण से मरने वालों का आंकड़ा अब 4,49,260 हो गया है. वहीं Covid-19 के कुल मरीजों की संख्या 3,38,53,048 हो चुकी है. इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने बताया कि, भारत में सोमवार को कोरोना वायरस के लिए 11,41,642 सैंपल टेस्ट किए गए. जिसके बाद देश में सैंपल टेस्टिंग का आंकड़ा अब 57,53,94,042 हो गया है.

साथ ही उम्मीद की जा रही है कि, आज भारत बायोटेक की Covid-19 वैक्सीन 'कोवैक्सिन' को विश्व स्वास्थ्य संगठन से इमरजेंसी यूज के लिए अनुमति मिल सकती है. आपको बता दें कि, कोवैक्सिन को अब तक विश्व स्वास्थ्य संगठन से इमरजेंसी यूज के लिए अप्रूवल नहीं मिला है. हालांकि WHO का एक्सपर्ट पैनल, आज इस पर बैठक करेगा. इस बैठक के लिए समिति के एजेंडे के तहत यह कहा जा रहा है कि, 'कोवैक्सिन' को इमरजेंसी यूज लिस्ट (EUL) ऑथराइजेशन मिल सकता है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अब तक केवल 6 Covid-19 वैक्सीन को मंजूरी दी है. इनमें फाइजर-बायोएनटेक वैक्सीन, जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सीन शामिल हैं. इसके साथ ही ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका वैक्सीन, जिसे सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा कोविशील्ड के रूप में निर्मित किया गया था, को भी शामिल किया गया है. इसके अलावा, मॉडर्ना, सिनोफार्म और सिनोवैक वैक्सीन को भी WHO ने ऑथराइजेशन दिया है. 

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com