क्या वैक्सीन लगने के बाद भी कोरोना संक्रमण का खतरा बरकरार रहता है?

क्या वैक्सीन लगने के बाद भी कोरोना संक्रमण का खतरा बरकरार रहता है?

जाने एक्सपर्ट्स की सलाह,क्या वैक्सीनेशन लगने के बाद भी कोरोना संक्रमण हो सकता है?

भारत बॉयोटेक के एक्सपर्ट डॉ.कृष्णा एल्ला ने कहा,' वैक्सीन सिर्फ ऊपर के फेफड़ों को सुरक्षा नहीं प्रदान करती, इसलिए वेक्सिनेशन के बाद भी मास्क पहनना ज़रूरी है"।

कोविड -19 महामारी की दूसरी लहर भारत के लिए, पहली लहर से अधिक खतरनाक साबित होती जा रही है। हर दिन देश में संक्रमण और संक्रमण से होने वाली मृत्यु के रिकॉर्ड टूट रहे हैं, जबकि कुछ राज्य ऑक्सीजन, रेमेडिसविर और वैक्सीन की कमी से  जूझ रहे हैं।

 कोरोना वायरस के बढ़ते हुए संक्रमण और वेक्सिनेशन होने के बावजूद  लोगों के संक्रमित होने के मामले लगातर सामने आ रहें है। इस पर भारत बॉयोटेक के एक्सपर्ट डॉ.कृष्णा एल्ला नेबताया,"वैक्सीन ऊपर के फेफड़ों को सुरक्षा नहीं प्रदान करती, इसलिए वेक्सिनेशन के बाद भी सभी सावधानियों को कड़ाई से जारी रखने की आवश्यकता है"। इस बात पर जोर देते हुए उन्होंने कहा कि, "इसलिए वैक्सीन की दो खुराक लिए बिना यह संभव है कि व्यक्ति को कोरोना वायरस का संक्रमण हो जाए। लेकिन यह समस्या लगभग हर इंजेक्शन के साथ है। वैक्सीन संक्रमण को गंभीर होने से रोकेगा। इंजेक्शन संक्रमण को घातक नहीं बनने देगा"।

भारत में 1 मई से वैक्सीन ड्राइव का विस्तार 18 वर्ष की आयु तक सभी के लिए किया जाएगा, भारत बायोटेक का लक्ष्य मई में 30 मिलियन खुराक का उत्पादन करना है। अप्रैल में इसकी क्षमता 20 मिलियन खुराक और मार्च में 15 मिलियन  तक हो सकती है।

इस पर भारत बॉयोटेक को तरफ़ से बयान आया है कि,"कंपनी ने कोवाक्सिन की 700 मिलियन खुराक का उत्पादन करने के लिए अपनी क्षमता बढ़ा दी है।

वैक्सीन के उत्पादन में वृद्धि करना वर्तमान स्थिति के लिए बहुत अनिवार्य है, क्योंकि वैश्विक आपूर्ति के अलावा, भारत के वैक्सीन निर्माताओं को अब राज्यों की व्यक्तिगत मांग को पूरा करना होगा। 1 मई से शुरू होने वाले तीसरे चरण के टीकाकरण में राज्यों को वैक्सीन खरीदने में मदद मिलेगी। 

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com