कोविड 19- भारत बायोटेक की कोवैक्सीन कोरोना वायरस के 617 वेरिएंट को बेअसर करने में सक्षम

कोविड 19- भारत बायोटेक की कोवैक्सीन कोरोना वायरस के 617 वेरिएंट को बेअसर करने में सक्षम
View of a vial of India's COVAXIN vaccine against COVID-19 at the public hospital in Villa Elisa, Paraguay, on April 14, 2021. (Photo by NORBERTO DUARTE / AFP) (Photo by NORBERTO DUARTE/AFP via Getty Images)

व्हाइट हाउस के प्रमुख मेडिकल एडवाइजर, डाॅ. एंथोनी फौसी ने कोवैक्सीन को भारत में वायरस मारने के लिए कारगर बताया 

भारत के कोविड 19 के मामलों के आंकड़े रिकॉर्ड तोड़ रहे हैं। देश में वैक्सीनेशन अभियान जोरों से चल रहा है, जिसमें भारत द्वारा बनी कोवैक्सीन और कोविशील्ड वैक्सीन का इस्तेमाल किया जा रहा है। हाल ही में व्हाइट हाउस के प्रमुख मेडिकल एडवाइजर, डाॅ. एंथोनी फौसी ने भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को  कोरोना वायरस के 617 वेरिएंट को बेअसर करने में सक्षम बताया है।

मंगलवार, 27 अप्रैल 2021 को एक वीडियो कॉन्फ्रेंस के दौरान अमेरिका के उच्च महामारी विशेषज्ञ और व्हाइट हाउस के प्रमुख मेडिकल एडवाइजर डाॅ. एंथोनी फौसी ने बताया की भारत की बनाई कोवैक्सीन जानलेवा कोरोना वायरस के B.1.617 वेरिएंट को बेअसर करने में सक्षम साबित हुई है।

डाॅ. एंथोनी फौसी ने कहा, 'ये कुछ ऐसा है जिस पर हम रोजाना डाटा प्राप्त कर रहे हैं। लेकिन हाल ही में मिले डाटा में, भारत के कोविड 19 मामलों में और जिन लोगों पर वैक्सीन इस्तेमाल हुई है, यह कोवैक्सीन असरदार साबित हुई है। यह कोरोना वायरस के 617 वेरिएंट को बेअसर करने में सक्षम रही। भारत में वैक्सीनेशन अभियान में देखी जा रही दिक्कतों के बावजूद, यह भारत में वायरस मारने के लिए कारगर व महत्वपूर्ण है'।

वहीं व्हाइट हाउस के कोविड 19 के वरिष्ठ सलाहकार ने कहा हम इस संकट की घड़ी में भारत की साथ हैं, और हम मदद के लिए टेस्टिंग किट, PPE किट, वेंटिलेटर और वैक्सीन बनाने के लिए कच्चा माल भेज रहे हैं। साथ ही भारत में मदद के लिए एक स्ट्राइक टीम भी भेजी जाएगी।

द न्यूयॉर्क टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, कोवैक्सीन SARS CoV- 2 कोरोना वायरस के खिलाफ इम्यून सिस्टम में एंटीबॉडी बनाने का काम करती है, जो कि वायरल प्रोटीन से जुड़ी होती है। 

भारत में बनी भारत बायोटेक की कोवैक्सीन, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ विरोलॉजी(NIV) और द इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के साथ पार्टनरशिप में बनी है। 3 जनवरी  2021 को इसे भारत में आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी मिली थी।

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com