CoronaVirus vaccine:अच्छी ख़बर, राज्यों को जल्द ही 11 लाख कोविड -19 वैक्सीन उपलब्ध होंगी: केंद्र सरकार।

CoronaVirus vaccine:अच्छी ख़बर, राज्यों को जल्द ही 11 लाख कोविड -19 वैक्सीन उपलब्ध होंगी: केंद्र सरकार।

भारत भर में वैक्सीनेशन अभियान पूरे जोर शोर से चल रहा है। अब तक 19 करोड़ से ज्यादा भारतीयों को वैक्सीन लग चुकी है। कुछ राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों में वैक्सीन (CoronaVirus Vaccine) की किल्लत देखने को मिली थी। केंद्र सरकार ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि बहुत जल्द ही राज्यों को 11लाख वैक्सीन की डोज उपलब्ध कराई जाएगी,ताकि वैक्सीनेशन अभियान में आई रुकावट को जल्द से जल्द दूर किया जा सके।

भारत में पूरे विश्व का सबसे बड़ा वैक्सीनेशन अभियान चल रहा है। इसके लिए बहुत ज्यादा मात्रा में वैक्सीन(CoronaVirus Vaccine) की जरूरत भी है। देश में अब तक 19 करोड़ से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है। फिर भी कुछ राज्यों में वैक्सीन की किल्लत देखने को मिली है। इसी  को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने गुरुवार को कहा कि 1.84 करोड़ से अधिक कोविड -19 वैक्सीन खुराक अभी भी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के पास उपलब्ध हैं। साथ ही, अगले तीन दिनों के भीतर 11 लाख से अधिक खुराक राज्यों को मिल जाएगी।

केंद्र ने अब तक राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को 22 करोड़ से अधिक वैक्सीन (CoronaVirus Vaccine) की डोज़  यानी लगभग 22,16,11,940 मुफ्त और प्रत्यक्ष राज्य खरीद श्रेणी के माध्यम से प्रदान की है। मंत्रालय ने कहा कि इसमें से खर्च सहित कुल  20,17,59,768 डोज़ की खपत हुई है।

भारत सरकार द्वारा वैक्सीन वितरण पर बनाई गई रणनीति के मुताबिक, हर महीने किसी भी निर्माता की कुल केंद्रीय औषधि प्रयोगशाला (CDL) की मंजूरी का 50 प्रतिशत केंद्र द्वारा खरीदा जाएगा। मंत्रालय ने कहा कि वह इन खुराकों को राज्य सरकारों को मुफ्त में उपलब्ध कराना जारी रखेगा जैसा कि पहले किया जा रहा था।

मंत्रालय ने कहा," 1.84 करोड़ से अधिक कोविड -19 वैक्सीन खुराक (1,84,90,522) अभी भी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के पास उपलब्ध हैं। इसके अलावा, 11,42,630 वैक्सीन खुराक पाइपलाइन में हैं और अगले तीन दिनों के भीतर राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को मिल जाएंगी।"

केंद्र, राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को टीकों(CoronaVirus Vaccine) की सीधी खरीद की सुविधा भी देता रहा है।

Related Stories

No stories found.
हिंदुस्तान रीड्स
www.hindustanreads.com